SP full form – SP का फुल फॉर्म क्या होता है?

हेलो दोस्तों, कैसे हो आप लोग? हम उम्मीद कर रहे है कि आप काफी अच्छे होंगे और अपने जीवन में आगे बढ़ रहे होंगे। दोस्तों आप जिस भी नगर या शहर में रहते है, वहां पर तो पुलिस व्यवस्था उपस्थित होगी ही। आप अपने रोज मारा के जीवन में पुलिस वालों को देखती होंगी।

पुलिस में आपने देखा होगा किसी के ऊपर 1 स्टार तो किसी को पर 2 स्टार लगे होते हैं। क्या आपको पता है उनके कंधे पर ईस्टास क्यों लगे होते हैं? यह स्टार्स उनकी पुलिस स्टेशन में पद को प्रदर्शित करता है।

पुलिस स्टेशन में बहुत से प्रकार के पुलिस होते हैं। पुलिस स्टेशन में कुछ पद जैसे SP, DSP, SSP, कॉन्स्टेबल इत्यादि उसी प्रकार होते हैं। तो दोस्तों पुलिस पद से जुड़ी कुछ जानकारियां जैसे कि पुलिस SP पद क्या होता है? SP पद का क्या कार्य होता है? SP का फुल फॉर्म क्या होता है? इस पद को प्राप्त करने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए? और भी इससे जुड़ी जानकारियां हम आपको आज के इस पोस्ट में देने वाले हैं।

यह भी जाने: SSP का फुल फॉर्म क्या होता है?

SP का फुल फॉर्म क्या होता है? ( full form of SP?)

यदि आपने SP का फुल फॉर्म हिंदी और इंग्लिश में जान लिया तो SP की पूरी जानकारी को जानने में आपको किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी। तो चलिए दोस्तो हम आपको SP का फुल फॉर्म हिंदी और इंग्लिश दोनों में ही बता दे रहे है।

SP का फुल फॉर्म हिंदी में “सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस” होता है। SP का फुल फॉर्म इंग्लिश में “Superintendent of Police” होता है। यदि बात करें सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस का हिंदी मतलब की तो इसका हिंदी मतलब जिला पुलिस अधीक्षक होता है।

[table id=25 responsive=scroll/]

SP क्या होता है? (What is SP?)

यदि आपके मन में यह सवाल आता ही जा रहा है कि SP क्या होता है या SP कौन होता है तो चलिए हम आपको इसके बारे में भी बता दे रहे है। भारत में, महानगरीय अत्यधिक आबादी वाले जिलों में एक वरिष्ठ SP या छोटे जिलों में SP एक जिले के पुलिस बल का प्रमुख होता है। जिन जिलों में एक वरिष्ठ अधीक्षक प्रमुख होता है, अधीक्षक एक जिले के भीतर एक बड़े शहरी या ग्रामीण क्षेत्र का मुखिया होता है।

SP पुलिस डिपार्टमेंट में एक बड़ा और खास पद होता है। इस पद पर बैठे इंसान को SP कहा जाता है।

SP का काम क्या होता है? (What is the work of SP?)

यदि आपके मन में यह सवाल आ रहा है की SP का काम क्या होता है या SP को कौन सा काम करना होता है। तो चलिए अब हम आपको SP का काम भी बता दे रहे है।

SP का मुख्य काम किसी भी मामले का रिपोर्ट अपने से छोटे पद पर बैठे कर्मचारी से मांगनी होती है, खुद मामला की निगरानी करनी होती है, घटना के तुरंत ही अपराध स्थल का दौरा करना होता है। अपराधों में शामिल पीड़ित अपील के लिए SP के पास जाते हैं, आदि काम SP का ही होता है।

SP कैसे बने? (How to become SP?)

क्या अब आपके मन में SP बनने का विचार आ रहा है। यदि आपके मन में SP बनने का विचार आ रहा है तो हम आपको बता दे की SP बनना इतना आसान भी नहीं है। इसके लिए काफी मेहनत से पढ़ाई करनी होती है। चलिए हम आपको SP बनने की पूरी जानकारी हिंदी में देते है।

SP बनने की प्रक्रिया उन छात्रों के लिए संक्षिप्त रूप से सूचीबद्ध है, जो SP बनना चाहते हैं। छात्रों को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10+2 से स्नातक होना चाहिए और किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या कॉलेज से किसी भी क्षेत्र में स्नातक की डिग्री हासिल करनी चाहिए। SP बनने के लिए यह न्यूनतम शैक्षणिक आवश्यकता है।

इसके बाद छात्र के पास तीन विकल्प होते हैं जिन्हें वह चुन सकता है।

पहला विकल्प UPSC CSAT (सिविल सेवा योग्यता परीक्षा) के लिए उपस्थित होना और 100 से ऊपर रैंक प्राप्त करना है। यह परीक्षा UPSC प्रीलिम्स पेपर का एक हिस्सा है, और छात्रों को उसी के अनुसार तैयारी करनी चाहिए। यदि छात्र योग्य है और यूपीएससी के तीन चरणों को पास करता है, तो वह अन्य स्तर के पदों के बीच IPS पद का विकल्प चुन सकता है।

परीक्षा पास करने के बाद शुरुआती रैंक D.S.P या A.C.P होगी। छात्र जल्द ही SP बनेंगे।

छात्रों के लिए दूसरा विकल्प राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षा में शामिल होना और उसे पास करना है। यह परीक्षा विभिन्न राज्यों में आयोजित की जाती है और छात्र DSP, आदि जैसे शक्तिशाली पदों को प्राप्त करने की उम्मीद कर सकते हैं। हालांकि, इस विकल्प में पदोन्नति पहले विकल्प की तुलना में धीमी है।

तीसरा विकल्प आपके राज्य पुलिस विभाग में सब इंस्पेक्टर एंट्री है। एक बार जब कोई छात्र सब-इंस्पेक्टर बन जाता है, तो उसे पूरी लगन और देशभक्ति के साथ कड़ी मेहनत करनी चाहिए और अपराधों को सुलझाना चाहिए। यदि उप निरीक्षक द्वारा कर्तव्यों और नियमों का पालन किया जाता है, तो वे SP के उच्चतम पदों पर पदोन्नति की आशा कर सकते हैं।

S.P बनने का एक और तरीका है, CBI में, SI को S.P और D.I.G को पदोन्नति के रूप में पदोन्नत किया जा सकता है।

SP बनने के लिए योग्यता (Eligibility to become SP)

SP बनने के लिए योग्यता कुछ इस तरह से है, जनरल कैटेगरी की उम्र 21-30 साल, OBC कैटेगरी की उम्र 21-33 साल, SC/ST कैटेगरी की उम्र 21-35 साल के बीच तक होनी चाहिए।

पुरुष की लम्बाई 165cm और महिला की लम्बाई 150 cm के आस-पास होनी चाहिए। पुरुष का सीना 84 cm के आस-पास होना चाहिए, और अगर महिलाओं की बात की जाए तो महिलाओं की सीना चौड़ाई की बात की जाए तो यह 79 सेंटीमीटर होना चाहिए।

उम्मीदवार के चयन के बाद, उसे पुलिस अकादमी में प्रशिक्षित किया जाएगा। प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के सफल समापन के बाद, उम्मीदवार को अपने संबंधित बैच में शामिल होना होगा। वे अभी तक SP नहीं होंगे। दो साल में ASP (सहायक पुलिस अधीक्षक) के रूप में पदोन्नत किया जाएगा, उसके बाद, आपके कैडर या प्रदर्शन और आपकी प्रोफ़ाइल के आधार पर, आपको SP के पद पर पदोन्नत किया जाएगा।

SP की सैलरी कितनी होती है? (What is the salary of SP?)

दोस्तों आपके मन में यह सवाल भी उठ रहा होगा, कि SP की मासिक वेतन कितना होता है तो दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दें पुलिस अधीक्षक: एक SP के लिए मासिक वेतन 78,800 रुपये है। SSP का मासिक वेतन ₹1,18,500 . है

पुलिस में SP रैंक क्या है? (What is the SP rank in police?)

पुलिस अधीक्षक या तो राज्य पुलिस सेवा या भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी होते हैं। वे भारत में गैर-महानगरीय जिलों के जिला प्रमुख हैं। वे उस जिले में एक बड़े शहरी या ग्रामीण क्षेत्र के प्रभारी भी होते हैं जहां एक वरिष्ठ अधीक्षक जिला प्रमुख होता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

मेरे प्यारे मित्र आपको इस पोस्ट में क्या जानने को मिला है? इस पोस्ट में हमने SP के बारे में जाना है। हमने इस पोस्ट में जाना कि SP का फुल फॉर्म क्या होता है, SP का काम क्या होता है, SP कैसे बने, आदि। आपको हमारा यह लेख कैसा लगा है? हमें कमेंट करके अपने विचार को हमारे साथ साझा करे।

SP Full Form FAQ’s

SP का फुल फॉर्म सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ़ पुलिस हिंदी में होता है। SP full form is Superintendent of Police इंग्लिश में होता है।
SP पुलिस डिपार्टमेंट में एक बड़ा और खास पद होता है।
SP बनने के लिए आपको सबसे पहले अपनी ग्रेजुएशन को अच्छे अंको से पूरा करके उसकी डिग्री को प्राप्त करनी होगी। इसके बाद आपको UPSC का एग्जाम देना होगा और इसे अच्छे रैंक से पास करना होगा।

उन्हें भी पढ़े ::