SEBI full form – SEBI का फुल फॉर्म क्या होता है?

Advertisements

नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है हमारे इस नई पोस्ट में। आज के इस पोस्ट में हम SEBI के बारे में आपको विस्तृत जानकारी देंगे। तथा इसके बारे में विभिन्न जानकारियां जैसे SEBI का फुल फॉर्म क्या है, SEBI किसके द्वारा संचालित किया जाता है तथा इसी प्रकार की अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां हम आपको नीचे विभिन्न हेडिंग्स के माध्यम से देंगे तो आइए बिना देर के आपको SEBI के बारे में बताते है।

SEBI का फुल फॉर्म क्या है? (What the full form of SEBI?)

चलिए अब हम आपको SEBI का फुल फॉर्म हिंदी और इंग्लिश दोनों में बाते है। SEBI का फुल फॉर्म सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ़ इंडिया है तथा SEBI full form is Securities and Exchange Board of India इंग्लिश में होता है। इसका हिंदी मलतब भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड है।

SEBI की स्थापना कब और किसके द्वारा की गई थी? (When and by whom was SEBI established?)

SEBI अर्थात भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड की स्थापना 12 अप्रैल सन 1992 ईस्वी को भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड के अधिनियम तथा 1992 के प्रावधानों के अनुसार की गई थी।

SEBI क्या करता है? (What does SEBI do?)

यह निवेशकों के हितों की रक्षा, नियम और दिशानिर्देश तैयार करने के लिए सुनिश्चित करते हुए, भारतीय पूंजी और प्रतिभूति बाजार की निगरानी और विनियमन करता है। SEBI का प्रधान कार्यालय बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स, मुंबई में स्थित है।

SEBI में हम निवेश कैसे कर सकते हैं? (How can we invest in SEBI?)

निवेशक SEBI की वेबसाइट www.sebi.gov.in पर लॉगइन कर सकते हैं और SEBI के नियमों और दिशानिर्देशों, म्यूचुअल फंड पर डेटा, म्यूचुअल फंड द्वारा लिखित प्रस्ताव दस्तावेजों, म्यूचुअल फंड के बारे में जानने के लिए “म्यूचुअल फंड” अनुभाग पर आप जा सकते हैं।

SEBI से हम कैसे जुड़ सकते है? (How can we join SEBI?)

SEBI की ग्रेड A चयन की प्रक्रिया निम्नलिखित चरणों पर आधारित होती है जो निम्न है:

  • प्रथम चरण में 100-100 अंकों की दो पेपर ऑनलाइन स्क्रीनिंग के द्वारा परीक्षार्थियों से कराए जाते हैं।
  • द्वितीय चरण में 100 अंकों की दो परीक्षाएं ऑनलाइन कराई जाती है।
  • तथा तीसरे चरण में साक्षात्कार परीक्षार्थियों से मिलकर उनका इंटरव्यू लिया जाता है।

इस प्रकार हम SEBI को ज्वाइन कर सकते हैं।

SEBI में कुल कितने सदस्य हैं? (How many members are in SEBI?)

SEBI में कुल मिलाकर 9 सदस्य शामिल होते है, जिसमें निम्नलिखित शामिल हैं:

अध्यक्ष को भारत की केंद्र सरकार द्वारा नामित किया जाता है। दो सदस्य, यानी केंद्रीय वित्त मंत्रालय के अधिकारी। भारतीय रिजर्व बैंक से एक सदस्य।

मुख्य पांच सदस्य भारत की केंद्र सरकार द्वारा नामित किए जाते हैं, उनमें से कम से कम तीन पूर्णकालिक सदस्य होंगे।

अब हम आपको यह भी बता देते है कि भारत में SEBI के कुल कितने कार्यालय और कहां कहां स्थित है?

SEBI के कार्यालय इन स्थान पर है: कोलकाता, नई दिल्ली, चेन्नई और अहमदाबाद में उत्तरी, क्षेत्रीय कार्यालय मौजूद हैं।

SEBI के मुख्य कार्य क्या होते हैं? (main functions of SEBI?)

SEBI के मुख्य कार्य निम्नलिखित हैं:

  • स्टॉक ब्रोकर्स, शेयर ट्रान्सफर एजेंट्स, सब-ब्रोकर्स, मर्चेंट बैंकर्स, अंडर-रायटर्स, पोर्टफोलियो मैनेजर, गोल्ड एक्सचेंज आदि के कार्यो का नियमन करना और उन्हें पंजीकृत करना।
  • बाजार से सम्बंधित अनुचित व्यापार व्यवहारों को ख़त्म करना।
  • स्टाफ को बेचने वाले शेयर्स को ट्रांसफर करने वाले एजेंट तथा गोल्ड एक्सचेंज पोर्टफोलियो मैनेजर इत्यादि के कार्यों को करना तथा उन्हें पंजीकृत करना।
  • म्यूच्यूअल फंड की समूह में निवेश की जाने वाली योजनाओं को पंजीकृत करना।

निष्कर्ष (Conclusion)

तो दोस्तों हमें उम्मीद है की आपको इस पोस्ट में हमारे द्वारा दी गई SEBI जानकारियां जैसे SEBI का फुल फॉर्म क्या है, SEBI में हम निवेश कैसे कर सकते हैं, SEBI की परीक्षा किस प्रकार होती है तथा SEBI के मुख्य का कार्य क्या क्या होते हैं, आदि तो दोस्तों आज की पोस्ट में बस इतना ही।

SEBI FAQ’s

SEBI के अध्यक्ष को कितने समय के लिए नियुक्त किया जाता है? इसे सुनें सेबी का अध्यक्ष पांच वर्ष की अवधि के लिए या 65 वर्ष की आयु तक या अगले आदेश तक नियुक्त किया जाता है।
अभी SEBI के चार पूर्णकालिक सदस्य हैं। अन्य तीन पूर्णकालिक सदस्यों का कार्यकाल 2021 में पूरा होगा।
भारतीय सिक्योरिटीज एवं विनिमय बोर्ड