Pregnant कैसे करे? गर्भधारण करने का सही तरीका

Pregnant kaise kare

कुछ शोध करने के बाद मुझे यही पता चला। “मैं गर्भवती कैसे हो सकती हूँ?” “भारत का नंबर एक सर्च इंजन” यह “कैसे करें” प्रश्न है।

इसका मतलब यह है कि भारत, जो जनसंख्या में दूसरे स्थान पर है, में लाखों लोग हैं जो यह नहीं जानते कि जन्म देते समय क्या करना चाहिए। यह आंशिक रूप से इस तथ्य के कारण है कि हमारे समाज में इस विषय के बारे में बात करना और सुनना स्वीकार्य नहीं है। सेक्स का भी इससे संबंध है। सही जानकारी नहीं होने के कारण लोगों को अक्सर मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

गर्भावस्था के बारे में अच्छे लेख खोजने के बजाय, जब मैंने इस विषय पर खोज की तो मुझे हिंदी सेक्स कहानियां मिलीं। तो आज मैं साझा कर रहा हूँ “गर्भवती कैसे प्राप्त करें खोजकर्ता Justmyhindi.com पर “हिंदी में” खोज कर अच्छी जानकारी पा सकते हैं।

दोस्तों, मैंने यहां जो जानकारी इकट्ठी की है, वह विभिन्न वेबसाइटों से एकत्र की गई है, जहां विशेषज्ञ डॉक्टर गर्भावस्था के बारे में जानकारी साझा करते हैं। हालांकि मुझे लगता है कि यह जानकारी आपके लिए उपयुक्त है, लेकिन उपरोक्त में से किसी को भी लागू करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करना एक अच्छा विचार होगा।

How to get pregnant in hindi? 

Pregnant कैसे करे

आइए सबसे पहले आपको प्रेग्नेंसी के बारे में कुछ फैक्ट्स बताते हैं।

बच्चे पैदा करने की इच्छा रखने वाले सभी लोगों में से लगभग 85% एक वर्ष के भीतर सफल हो जाते हैं। पहले महीने में सफल होने वालों में से केवल 22% ही माता-पिता बन पाते हैं। एक साल से अधिक समय तक प्रयास करने के बाद बच्चा पैदा करना मुश्किल हो सकता है। ऐसे जोड़ों को बांझ माना जाता है।

बच्चे को जन्म देने के लिए पार्टनर के बीच सेक्स करना जरूरी है। पुरुष का लिंग (लिंग), महिला की योनि (योनि) में डाला जाना चाहिए। फिर उसे यह सुनिश्चित करने के लिए शुक्राणु को उसकी योनि में छोड़ना होगा कि शुक्राणु गर्भाशय (गर्भाशय) के पास एकत्र न हो। यह सेक्स के दौरान अपने आप होता है इसलिए आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है।

गर्भाधान के समय के आसपास संभोग करना चाहिए। ओव्यूलेशन उस प्रक्रिया को संदर्भित करता है जिसके द्वारा एक महिला के अंडे से एक अंडा लिया जाता है। ओव्यूलेशन (एमसी) मासिक धर्म चक्र का एक हिस्सा है। यह एमसी के 14वें दिन से शुरू होता है जब रक्तस्राव शुरू होता है। होता है।

महिलाओं को बच्चे पैदा करने के लिए अपने पार्टनर के साथ सेक्स पर जाने की जरूरत नहीं है। डॉक्टरों का मानना ​​है कि अंडाशय से अंडे को गर्भाशय में ले जाने के लिए फैलोपियन ट्यूब जिम्मेदार है। यह शुक्राणु को अपने आप खींच लेता है और अंडे के साथ मिलाने का प्रयास करता है। महिलाओं के लिए तृप्ति वैकल्पिक है।

प्रेग्नेंट होने के तरीके हिंदी में

1) तनाव मुक्त रहने का प्रयास करके Pregnant कैसे करे

इसमें कोई शक नहीं कि अत्यधिक तनाव आपके प्रजनन कार्य में बाधा डालेगा। तनाव कामेच्छा को नष्ट कर सकता है, और चरम स्थितियों में महिलाओं में मासिक धर्म की प्रक्रिया को बाधित कर सकता है। शांत मन का आपके शरीर पर अच्छा प्रभाव पड़ता है और आपके गर्भवती होने की संभावना बढ़ जाती है। इसके लिए आप नियमित श्वास-व्यायाम और विश्राम तकनीकों का उपयोग कर सकते हैं।

2) अपने डॉक्टर से सलाह लेके Pregnant कैसे करे

बच्चा पैदा करने की योजना बनाने से पहले डॉक्टर से सलाह लें। यह पुष्टि करेगा कि आप स्वस्थ हैं और किसी बीमारी या अन्य शारीरिक समस्याओं से पीड़ित नहीं हैं। इससे आपके यौन संचारित रोगों के होने की संभावना कम हो जाएगी। आपको फाइब्रॉएड, ओवेरियन सिस्ट और एंडोमेट्रियोसिस जैसी समस्याओं के लिए भी जांच कराने की आवश्यकता होगी।

3) सेक्स के बाद थोड़ा आराम करें

सेक्स के बाद कुछ देर लेटने से महिलाओं की योनि से शुक्राणु निकलने की संभावना नहीं रहती है। इसलिए बेहतर है कि सेक्स के बाद 15-20 मिनट तक लेट जाएं।

4) किसी भी प्रकार का नशा न करें

ड्रग्स, ड्रग्स, सिगरेट या शराब का सेवन पुरुष और महिला दोनों के हार्मोन के संतुलन को बिगाड़ सकता है। और आपकी प्रजनन क्षमता को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है। और बच्चों में जन्मजात विसंगतियाँ भी हो सकती हैं।

5) दवाओं का प्रयोग कम से कम करें

कई दवाएं, यहां तक ​​कि सामान्य दवाएं जो आसानी से उपलब्ध होती हैं, आपकी प्रजनन क्षमता पर बुरा प्रभाव डाल सकती हैं। कई चीजें ओव्यूलेशन को रोक सकती हैं, इसलिए कम से कम दवाओं का इस्तेमाल करें। बेहतर होगा कि आप कोई भी दावा लेने या छोड़ने से पहले डॉक्टर से सलाह लें। स्व-उपचार घातक हो सकता है, ऐसा जोखिम न लें।

6) स्नेहक (Lubricants)  से बचें

योनि को चिकनाई देने के लिए उपयोग किए जाने वाले कुछ जैल, तरल पदार्थ आदि शुक्राणु को महिला प्रजनन पथ से यात्रा करने से रोक सकते हैं। इसलिए डॉक्टर से पूछकर ही इनका इस्तेमाल करें। वैसे, किसी कृत्रिम स्नेहक का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि संभोग के दौरान शरीर स्वयं पर्याप्त मात्रा में तरल का उत्पादन करता है जो शुक्राणु और डिंब दोनों के लिए स्वस्थ होता है।

7) ओव्यूलेशन के समय के आसपास सेक्स करके Pregnant कैसे करे

स्त्री रोग विशेषज्ञों का मानना ​​है कि एक महिला को अपने अंडाशय से बाहर आने के 24 घंटे के भीतर अपने अंडे निषेचित कर लेने चाहिए। एक पुरुष का शुक्राणु एक महिला के प्रजनन तंत्र में केवल 48 से 72 घंटों के बीच ही जीवित रह सकता है। अंडे और शुक्राणु से बच्चा पैदा करने के लिए जिस भ्रूण की आवश्यकता होती है, वह बनता है। जोड़े को हर 72 घंटे में कम से कम एक बार सेक्स करना चाहिए। इस दौरान पुरुष को महिला के शीर्ष पर होना चाहिए ताकि शुक्राणु के रिसाव की संभावना कम हो। पुरुषों को यह भी याद रखना चाहिए कि 48 घंटे से अधिक समय तक स्खलन नहीं करना चाहिए। इससे उनके शुक्राणुओं की संख्या में गिरावट आ सकती है, जिससे अंडे को निषेचित करना मुश्किल हो सकता है।

आपको कैसे पता चलेगा कि ओव्यूलेशन कब हो रहा है?

ओव्यूलेशन का समय जानने से पता चलता है कि अंडा कब फर्टिलाइज करने के लिए तैयार है। यह आपके मासिक धर्म चक्र को जानकर किया जा सकता है। इसमें 24 से 40 दिन तक का समय लग सकता है। एक बार जब आपको पता चल जाए कि आपकी अगली माहवारी कब आएगी, तो 12-16 दिन पहले का पता लगाएं। यह आपके ओवुलेशन का समय है।

उदाहरण के लिए: यदि मासिक धर्म 30 तारीख से शुरू होता है, तो 14 से 18 के बीच का समय ओव्यूलेशन होने का समय होगा।

आप अपने बच्चे को जन्म देने का सबसे अच्छा समय निर्धारित करने के लिए भी इस विधि का उपयोग कर सकती हैं।

अब आप योनि से तरल पदार्थ को अपनी उंगली पर डालकर अपने बच्चे के साथ यौन संबंध बना सकती हैं।

8) स्वस्थ जीवन जिएं

बच्चे पैदा करने की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए जीवनसाथी और पति के लिए स्वस्थ जीवन शैली का होना जरूरी है। इससे बच्चे की जिंदगी आसान हो जाएगी। सुनिश्चित करें कि आप पर्याप्त फल और सब्जियां खाएं। महिला और पुरुष दोनों ही विटामिन की सही मात्रा लेकर अपनी प्रजनन क्षमता को बढ़ा सकते हैं। रोजाना व्यायाम करने से भी होता है फायदा

सिगरेट पीने वाली महिलाओं में बच्चे पैदा करने की संभावना 40% कम होती है।

9) अंडकोष (अंडकोष) को अत्यधिक गर्मी से बचाएं

यदि शुक्राणु उच्च तापमान के संपर्क में आते हैं, तो वे मृत हो सकते हैं। इसलिए अंडकोष (जहां शुक्राणु बनते हैं) शरीर के बाहर होते हैं ताकि वे ठंडे रह सकें। वाहन चलाते समय ऐसी मनके वाली सीट का प्रयोग करें जिससे कुछ हवा निकल सके। और इस हिस्से को ज्यादा गर्म पानी से न धोएं। वैसे तो आमतौर पर इतनी सावधानी बरतने की जरूरत नहीं होती है, लेकिन जो लोग आग की भट्टी या किसी गर्म स्थान पर लंबे समय तक काम करते हैं, उन्हें सावधान रहने की जरूरत है। एक्स-रे तकनीशियनों को हमेशा लेड कोट पहनकर काम करना चाहिए अन्यथा बच्चे में जन्मजात विसंगतियां हो सकती हैं।

FAQ’S

पीरियड्स खत्म होने के बाद आप प्रेग्नेंट हो सकती हैं। वास्तव में, गर्भवती होने में आपकी अवधि के बाद के 5 दिन और ओव्यूलेशन का दिन शामिल होता है। अगर आप गर्भधारण करने की योजना बना रही हैं तो आपको सप्ताह में दो या तीन बार सेक्स करने की सलाह दी जाती है।
हरी पत्तेदार सब्जियों, साबुत अनाज और अंडे के साथ-साथ मांस में भी विटामिन बी विटामिन अच्छी मात्रा में पाया जाता है। फोलिक एसिड भ्रूण के विकास और वृद्धि के लिए महत्वपूर्ण है। यह प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है। फोलिक एसिड सोयाबीन, आलू, गेहूं, चुकंदर, केला और ब्रोकोली सहित कई खाद्य पदार्थों में पाया जा सकता है।
संभोग के दौरान वैसलीन, जेली और तेल को बंद कर देना चाहिए क्योंकि यह शुक्राणुओं की गति को कम कर सकता है। संभोग के तुरंत बाद अपनी पत्नी को अपने घुटनों को छाती से लगाने के लिए कहें। 10 से 15 मिनट तक आप इस पोजीशन में रह सकते हैं। यह आसन आपके गर्भधारण की संभावना को बढ़ाता है।
फर्टाइल पीरियड्स के दौरान हर दूसरे दिन सेक्स करें उपजाऊ खिड़की ओव्यूलेशन से 5 दिन पहले, और उसके दिन तक 6 दिनों तक चलती है। हर महीने में ये वो दिन होते हैं जब एक महिला के सेक्स के जरिए गर्भवती होने की सबसे अधिक संभावना होती है।
22 से 28 की उम्र के बीच गर्भधारण करना सबसे अच्छा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस उम्र में महिला मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार होती है। गर्भवती होने के लिए, संभोग एक महत्वपूर्ण कारक है। अगर महिला के रिश्ते में ऑर्गेज्म है तो गर्भवती होने की संभावना बढ़ जाती है।

अन्य पढ़े :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *