जीपीएस क्या होता है? | GPS की पूरी जानकारी हिंदी में

Advertisements

हेलो दोस्तों कैसे हो? मुझे उन्मीद हे की आप सब ठीक होंगे तो आज में आपको डिटेल के साथ बताने वाले हे की किसी भी जीपीएस क्या होता है? और GPS की पूरी जानकारी हिंदी में। मुझे पूरी उन्मीद हे की आप इस आर्टिकल को सुरु से लेकर अंत तक पढ़ेंगे तो आपको कुछ भी Question नहीं रहेगा तो चलिए सुरु करते है?

GPS का मतलब ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम है। एक जीपीएस रिसीवर कुछ मीटर के भीतर और कभी-कभी कुछ फीट के भीतर अपना स्थान निर्धारित कर सकता है।

जीपीएस ड्राइवरों, पैदल यात्रियों, शिकारियों और अन्य बाहरी उत्साही लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण नौवहन उपकरण है।

जीपीएस एक ऐसी प्रणाली है जो उपकरणों को उपग्रहों से संकेतों का उपयोग करके उनके स्थान की गणना करने की अनुमति देती है।

इस तकनीक में नेविगेशन, मैपिंग और सर्वेक्षण सहित कई अनुप्रयोग हैं। जीपीएस रिसीवर स्मार्टफोन, कार और ड्रोन सहित कई उपकरणों में पाए जा सकते हैं।

यह भी पढ़े : GPS का फुल फॉर्म क्या होता है?

GPS का मतलब ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम है। यह एक उपकरण के स्थान, गति और दिशा को निर्धारित करने के लिए उपयोग की जाने वाली प्रणाली है।

जीपीएस रिसीवर अपने निर्देशांक की गणना करने के लिए उपग्रहों से संकेतों का उपयोग करते हैं।

जीपीएस क्या होता है?

जीपीएस या ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम एक उपग्रह नेविगेशन सिस्टम है जो उपयोगकर्ताओं को उनके सटीक स्थान का निर्धारण करने में सक्षम बनाता है।

इसमें 24 उपग्रहों का एक समूह है जो पृथ्वी के चारों ओर कक्षा में है और कुछ मीटर तक सटीक स्थिति की जानकारी प्रदान कर सकता है।

GPS

Advertisements

जीपीएस रिसीवर आमतौर पर कई उपग्रहों से सिग्नल प्राप्त करने के लिए दो या दो से अधिक आवृत्तियों का उपयोग करते हैं।

रिसीवर तब प्रत्येक सिग्नल के लिए आगमन के समय अंतर (टीडीओए) की गणना करता है और इस जानकारी का उपयोग उपयोगकर्ता के स्थितीय निर्देशांक की गणना करने के लिए करता है।

जीपीएस का फुल फॉर्म क्या है ?

GPS का मतलब ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम है। एक जीपीएस सिस्टम में तीन घटक होते हैं: रिसीवर, उपग्रह और यूजर इंटरफेस।

रिसीवर एक ऐसा उपकरण है जो उपग्रहों से संकेतों का पता लगा सकता है। उपग्रह पृथ्वी की परिक्रमा करने वाले उपकरणों के टुकड़े हैं जो रिसीवर्स को संकेत भेजते हैं।

यूजर इंटरफेस एक स्क्रीन है जो रिसीवर और उपग्रहों के स्थान के बारे में जानकारी प्रदर्शित करता है।

GPS कैसे काम करता है?

जीपीएस एक वैश्विक नेविगेशन उपग्रह प्रणाली है जो पृथ्वी पर उपयोगकर्ताओं को स्थिति, समय और अन्य नेविगेशन सेवाएं प्रदान करती है।

इसमें छह कक्षीय विमानों में 24 उपग्रह हैं जो पृथ्वी की सतह पर क्षैतिज कवरेज प्रदान करते हैं। जीपीएस रिसीवर अपनी वर्तमान स्थिति की गणना करने के लिए इन उपग्रहों से संकेतों का उपयोग करते हैं और अपने आस-पास की वस्तुओं की गतिविधियों को ट्रैक करते हैं।

जीपीएस का इतिहास

1) ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) की कल्पना पहली बार 1970 के दशक की शुरुआत में संयुक्त राज्य अमेरिका की सेना द्वारा की गई थी।

यह भी पढ़े : मोबाइल नंबर से लोकेशन कैसे पता करें?

2) जीपीएस 1983 में चालू हुआ और तब से दुनिया भर के नागरिकों, सेनाओं और व्यवसायों द्वारा इसका उपयोग किया जाता रहा है।

3) आज, जीपीएस एक सर्वव्यापी उपकरण है जिसका उपयोग नेविगेशन, मैपिंग, सर्वेक्षण आदि के लिए किया जाता है।

4) यह प्रणाली सटीक स्थिति की जानकारी प्रदान करने के लिए उपग्रहों के एक नेटवर्क पर निर्भर करती है।

5) जीपीएस ने कई लोगों के जीवन को बदल दिया है और रोजमर्रा की जिंदगी में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

जीपीएस का अविष्कार किसने किया था?

GPS का आविष्कार यूनाइटेड स्टेट्स नेवल रिसर्च लेबोरेटरी (NRL) द्वारा 1985 में किया गया था। NRL जहाजों और विमानों के लिए नेविगेशन में सुधार के लिए एक प्रणाली पर काम कर रहा था।

जब उन्हें एहसास हुआ कि सिग्नल का उपयोग नागरिक उद्देश्यों के लिए भी किया जा सकता है। उन्होंने 1989 में अपने आविष्कार के लिए एक पेटेंट दायर किया और यह 1995 में जनता के लिए उपलब्ध हो गया।

जीपीएस का उद्देश्य क्या है?

जीपीएस (ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम) एक नेविगेशन सिस्टम है जो उपयोगकर्ताओं को ग्लोबल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (जीएनएसएस) से सिग्नल ट्रांसमिट करने और सिग्नल प्राप्त करके पृथ्वी पर उनके स्थान को निर्धारित करने में सक्षम बनाता है।

GNSS उपग्रह हैं जो स्थिति, समय, संकेत सटीकता और मौसम की जानकारी प्रदान करते हैं। जीपीएस रिसीवर प्राप्त सिग्नल शक्ति और आगमन के समय की जानकारी के आधार पर अपने स्थान की गणना कर सकते हैं।

स्मार्टफोन पर GPS कितनी सही लोकेशन दिखाता है?

GPS स्मार्टफ़ोन पर स्थान कितना सटीक दिखाता है?

साइंस जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि जीपीएस की सटीकता अविश्वसनीय रूप से सटीक हो सकती है, लेकिन यह सही नहीं है।

अध्ययन में पाया गया कि जब समय के साथ किसी व्यक्ति के स्थान को ट्रैक करने के लिए जीपीएस का उपयोग किया जाता है, तो लगभग 20% समय यह 30 मीटर (98 फीट) तक बंद हो जाएगा। बेस स्टेशन से दूरी बढ़ने के साथ यह अशुद्धि और भी स्पष्ट हो जाती है।

क्या जीपीएस हर जगह काम करता है?

GPS रिसीवर का उपयोग विभिन्न वातावरणों में किया जा सकता है, लेकिन वे हमेशा सटीक नहीं होते हैं। बहुत से लोग सोचते हैं कि GPS रिसीवर हर जगह काम करते हैं, लेकिन हमेशा ऐसा नहीं होता है।

ऐसे कई कारक हैं जो GPS रिसीवर की सटीकता को प्रभावित कर सकते हैं, जिसमें वह वातावरण जिसमें इसका उपयोग किया जाता है और जिस प्रकार के सिग्नल का उपयोग किया जा रहा है।

जीपीएस का उपयोग कैसे करें?

जीपीएस का उपयोग करने के कई तरीके हैं। आप इसका उपयोग खो जाने पर अपना रास्ता खोजने के लिए, अपने दौड़ने या बाइक चलाने के मार्गों को ट्रैक करने के लिए, और बहुत कुछ करने के लिए कर सकते हैं।

चाहे आप नौसिखिए हों या एक अनुभवी उपयोगकर्ता, अपने GPS का अधिकतम लाभ उठाने के लिए यहां 8 युक्तियां दी गई हैं:

  1. बाहर जाने से पहले अपने डिवाइस की बैटरी लाइफ की जांच करें। यदि आपके पास बैकअप बैटरी नहीं है, तो यदि आप इसका उपयोग कर रहे हैं तो बैटरी समाप्त हो जाने पर आपका GPS बेकार हो जाएगा।
  2. समय से पहले अपने मार्ग की योजना बनाएं। अपने मार्ग की योजना बनाते समय, अपने रास्ते में आने वाली बाधाओं को ध्यान में रखें और सुनिश्चित करें कि आप उनके लिए पर्याप्त समय दें।
  3. अपरिचित क्षेत्र में खुद को उन्मुख करने के लिए स्थलों का उपयोग करें। यदि आप नहीं जानते कि आप कहां हैं, तो आस-पास के लैंडमार्क (जैसे सड़क के संकेत या भवन) देखें और पता करें कि वहां से कैसे पहुंचा जाए।

जीआईएस वा जीपीएस क्या है?

GPS

  1. जीपीएस (जीआईएस) एक उपग्रह आधारित नेविगेशन प्रणाली है जो उपयोगकर्ताओं को सटीक सटीकता के साथ अपने गंतव्य तक नेविगेट करने में सक्षम बनाती है।
  2. जीपीएस हाइकर्स, शिकारियों, मछुआरों और अन्य बाहरी उत्साही लोगों के बीच लोकप्रिय है क्योंकि यह वस्तुओं का पता लगाने और आंदोलनों को ट्रैक करने की एक बढ़ी हुई क्षमता प्रदान करता है।
  3. क्षेत्र के नक्शे देखने या डाउनलोड करने के लिए एक जीपीएस स्थान के निर्देशांक आसानी से एक मैपिंग सॉफ्टवेयर प्रोग्राम या वेबसाइट में इनपुट किए जाते हैं।
  4. इसके अतिरिक्त, कई व्यवसाय अब आपूर्तिकर्ताओं से माल की सूची और ट्रैक डिलीवरी को प्रबंधित करने के लिए GPS तकनीक का उपयोग करते हैं।
  5. विकलांग लोग भी जीपीएस उपकरणों के उपयोग से लाभान्वित हो सकते हैं क्योंकि वे अनुकूलित सहायक तकनीकों के साथ उपयोग करना आसान हो जाते हैं।

लोकेशन कैसे कनेक्ट करते हैं?

जब आप किसी यात्रा की योजना बना रहे हों, तो अक्सर यह विचार करना महत्वपूर्ण होता है कि आप कहाँ जा रहे हैं और कौन सी सड़कें शामिल होंगी।

अपने मार्ग की योजना बनाने में सहायता के लिए आप मानचित्र या GPS उपकरण का उपयोग कर सकते हैं।

जीपीएस उपकरणों का उपयोग दुनिया में कहीं भी आपका स्थान खोजने के लिए किया जा सकता है। अपने जीपीएस डिवाइस को इंटरनेट से कनेक्ट करने के विभिन्न तरीके हैं ताकि आप ऑनलाइन मैपिंग सेवाएं प्राप्त कर सकें और देख सकें कि आप कहां स्थित हैं।

आप अपने GPS उपकरण को अपने कंप्यूटर से कनेक्ट करने के लिए USB कनेक्शन का उपयोग कर सकते हैं। इससे आप मानचित्र देख सकते हैं, अपने मार्ग ट्रैक कर सकते हैं और अपने स्थान के चित्र डाउनलोड कर सकते हैं।

आप मैपिंग के लिए विशेष सॉफ्टवेयर भी डाउनलोड कर सकते हैं जिससे आप कस्टम रूट और ट्रैक बना सकते हैं।

अपने GPS उपकरण को कनेक्ट करने का दूसरा तरीका ब्लूटूथ तकनीक के माध्यम से है। यह आपको अपने GPS उपकरण से सीधे संगत फ़ोन या टेबलेट पर दिशा निर्देश भेजने की अनुमति देता है।

जीपीएस का दाम कितना है?

GPS डिवाइस की कीमत मेक और मॉडल के आधार पर अलग-अलग हो सकती है, लेकिन औसतन इनकी कीमत लगभग 100 डॉलर होती है।

बहुत से लोग एक जीपीएस यूनिट को सीधे खरीदना चुनते हैं, जबकि अन्य एक को पट्टे या किराए पर ले सकते हैं। आम तौर पर, जीपीएस में जितनी अधिक सुविधाएं होंगी, उतनी ही महंगी होगी।

जीपीएस से क्या क्या फायदे हैं?

नेविगेशन के लिए जीपीएस तकनीक एक बेहतरीन टूल है। यह आपको अपना रास्ता खोजने में मदद कर सकता है, और विशिष्ट जानकारी खोजने में भी आपकी मदद कर सकता है। यहाँ GPS का उपयोग करने के कुछ लाभ दिए गए हैं:

इसका उपयोग इनडोर और आउटडोर दोनों वातावरण में किया जा सकता है।

इसका उपयोग करना आसान है, इसलिए इसका उपयोग करने के लिए आपको विशेषज्ञ होने की आवश्यकता नहीं है।

यात्रा या लंबी पैदल यात्रा के दौरान आपको सुरक्षित रखने के लिए आप इस पर भरोसा कर सकते हैं।

यह आपके स्थान और मार्ग पर नज़र रखकर आपको संगठित और कुशल बने रहने में मदद कर सकता है।

गूगल मैप से मोबाइल नंबर कैसे ट्रैक करें?

जब आप किसी व्यक्ति के मोबाइल फ़ोन को मानचित्र से ट्रैक करना चाहते हैं, तो इसे करने के कई तरीके हैं। सबसे लोकप्रिय तरीका है अपने फ़ोन पर GPS सुविधा का उपयोग करना।

हालाँकि, यदि आपको एक समय में एक से अधिक फ़ोन ट्रैक करने की आवश्यकता है, तो यह विधि बोझिल हो सकती है।

वैकल्पिक रूप से, आप मोबाइल फ़ोन के स्थान को ट्रैक करने के लिए सेलुलर टावर जानकारी का उपयोग कर सकते हैं।

हालांकि, यह विधि हमेशा विश्वसनीय नहीं होती है और इसके लिए महंगे उपकरण की आवश्यकता होती है। यदि आपके पास इनमें से कोई भी विकल्प उपलब्ध नहीं है, तो अगली सबसे अच्छी बात Google मानचित्र का उपयोग करना है।

Google मानचित्र का उपयोग करके किसी के मोबाइल फ़ोन को ट्रैक करने के लिए: 1) Google मानचित्र खोलें और मानचित्र पर व्यक्ति के मोबाइल फ़ोन का पता लगाएं। 2) “3D वेयरहाउस व्यू” बटन पर क्लिक करें और उस क्षेत्र पर ज़ूम इन करें जहां मोबाइल फोन स्थित है।

दूसरे मोबाइल को ट्रैक कैसे कर सकते हैं?

आप दूसरे मोबाइल डिवाइस को कैसे ट्रैक कर सकते हैं? GPS ट्रैकिंग डिवाइस मोबाइल डिवाइस के ठिकाने पर नज़र रखने का एक तरीका है।

एक अन्य विकल्प मोबाइल डिवाइस पर जासूसी सॉफ्टवेयर स्थापित करना और उसके इंटरनेट कनेक्शन के माध्यम से उसके स्थान को ट्रैक करना है।

हालाँकि, यह आपके इलाके में कानूनी नहीं हो सकता है या यदि उपयोगकर्ता गुमनाम रहने का इरादा रखता है।

और अंत में, आप अपने स्वयं के फ़ोन पर एक ट्रैकिंग ऐप का उपयोग कर सकते हैं ताकि विचाराधीन मोबाइल डिवाइस की गतिविधियों की निगरानी और नियंत्रण किया जा सके।

निष्कर्ष 

अंत में, जीपीएस एक उत्कृष्ट नौवहन उपकरण है जिसने क्रांति ला दी है कि लोग दुनिया का पता कैसे लगाते हैं। यह एक बहुमुखी और कुशल तकनीक है जिसका उपयोग व्यक्तिगत और व्यावसायिक दोनों उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है।

अनुप्रयोगों की विस्तृत श्रृंखला के साथ, जीपीएस भविष्य की खोज और खोज में एक भूमिका निभाने के लिए निश्चित है।

इसलिए चाहे आप शहर के चारों ओर अपना रास्ता खोज रहे हों या अज्ञात में, आपको वहां सुरक्षित और कुशलता से पहुंचाने के लिए जीपीएस पर भरोसा करें।

जीपीएस उपग्रहों का एक नेटवर्क है जो पृथ्वी पर रिसीवरों को नेविगेशन सिग्नल प्रसारित करता है। ये संकेत उपयोगकर्ताओं को अपरिचित वातावरण में अपना रास्ता खोजने में सक्षम बनाते हैं और यहां तक कि बाइक चलाने या दौड़ने जैसी गतिविधियों के लिए भी इसका उपयोग किया जा सकता है।

जीपीएस के लिए धन्यवाद, हम कहीं भी जा सकते हैं, जब भी हम चाहते हैं, बिना खोए!