GPS Full Form in Hindi | GPS का फुल फॉर्म क्या होता है?

Advertisements

हेलो दोस्तों कैसे हो? मुझे उन्मीद हे की आप सब ठीक होंगे तो आज हम आपको डिटेल के साथ बताने वाले हे की GPS Full Form in Hindi और GPS की पूरी जानकारी हिंदी में। मुझे पूरी उन्मीद हे की आप इस आर्टिकल को सुरु से लेकर अंत तक पढ़ेंगे तो आपको कुछ भी Question नहीं रहेगा तो चलिए सुरु करते है।

GPS का मतलब ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम है। यह एक उपग्रह आधारित नेविगेशन प्रणाली है जो उपयोगकर्ताओं को डिजिटल स्थिति की जानकारी प्रदान करती है।

GPS रिसीवर पृथ्वी पर अपने सटीक स्थान की गणना करने के लिए कम से कम चार उपग्रहों के संकेतों का उपयोग करते हैं। जीपीएस तेजी से प्रतिक्रिया समय और नेविगेशन के पारंपरिक तरीकों की तुलना में अधिक सटीक रीडिंग प्रदान करता है, जैसे डेड रेकनिंग और कंपास बेयरिंग।

GPS Full Form in Hindi

GPS का फुल फॉर्म ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम है। यह एक उपग्रह नेविगेशन प्रणाली है जो सभी मौसम की स्थिति में स्थान और समय की जानकारी प्रदान करती है, पृथ्वी पर या उसके आस-पास कहीं भी, जहां चार या अधिक जीपीएस उपग्रहों की दृष्टि की अबाधित रेखा है। यह प्रणाली दुनिया भर के सैन्य, नागरिक और वाणिज्यिक उपयोगकर्ताओं को महत्वपूर्ण क्षमताएं प्रदान करती है।

GPS का फुल फॉर्म मूल रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका के रक्षा विभाग (DoD) द्वारा सैन्य उपयोग के लिए विकसित किया गया था। यह 1995 में पूरी तरह से चालू हो गया। पेंटागन सिस्टम को नियंत्रित और संचालित करना जारी रखता है, हालांकि इसे अन्य सरकारी एजेंसियों और कुछ वाणिज्यिक उपयोगकर्ताओं के लिए खोल दिया गया है।

जीपीएस के नागरिक घटक को नवस्टार कहा जाता है। इसका प्रबंधन संयुक्त राज्य वायु सेना द्वारा अपने 50 वें स्पेस विंग के तहत श्राइवर एयर फ़ोर्स बेस, कोलोराडो में किया जाता है।

जीपीएस क्या है?

जीपीएस, या ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम, एक ऐसी तकनीक है जो किसी व्यक्ति के स्थान को इंगित करने के लिए उपग्रहों का उपयोग करती है।

उपग्रह पृथ्वी की परिक्रमा करते हैं और संकेत भेजते हैं जिनका उपयोग अक्षांश, देशांतर, ऊंचाई और समय की गणना के लिए किया जा सकता है। जीपीएस रिसीवर कारों, फोन, फिटनेस ट्रैकर्स और बहुत कुछ में पाए जा सकते हैं।

GPS Full form

Advertisements

मूल रूप से 1970 के दशक में संयुक्त राज्य अमेरिका की सेना द्वारा विकसित, जीपीएस 1980 के दशक में नागरिकों के लिए उपलब्ध कराया गया था।

तब से यह कई लोगों के लिए रोजमर्रा की जिंदगी का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है। जीपीएस का उपयोग शहर के चारों ओर अपना रास्ता खोजने से लेकर आपकी फिटनेस प्रगति पर नज़र रखने तक हर चीज़ के लिए किया जाता है।

जीपीएस रिसीवर के कुछ अलग प्रकार हैं: एकल आवृत्ति रिसीवर स्थान की गणना करने के लिए एक समय में केवल एक उपग्रह से सिग्नल का उपयोग करते हैं।

दोहरी आवृत्ति रिसीवर दो उपग्रहों से संकेतों का उपयोग करते हैं। और बहु-आवृत्ति रिसीवर तीन या अधिक उपग्रहों से संकेतों का उपयोग करते हैं।

जीपीएस के उपयोग

जीपीएस कारों में तेजी से लोकप्रिय फीचर बन गया है। जबकि यह एक बार केवल हाई-एंड मॉडल में उपलब्ध था, अब यह सभी कीमतों के वाहनों में आम होता जा रहा है। इसके कई कारण हैं।

पहली सुरक्षा है। जीपीएस ड्राइवरों को दिशा-निर्देश प्रदान करके और संभावित खतरों की चेतावनी देकर दुर्घटनाओं से बचने में मदद कर सकता है। यदि वे खो जाते हैं तो यह उन्हें उनके गंतव्य तक पहुंचने में मदद कर सकता है।

जीपीएस की लोकप्रियता का एक और कारण यह है कि यह ड्राइवरों के पैसे बचा सकता है। दिशा-निर्देश प्रदान करके, जीपीएस ड्राइवरों को ट्रैफिक जाम से बचने और अपने गंतव्य के लिए सबसे छोटा रास्ता खोजने में मदद कर सकता है। यह गैस पर समय और पैसा बचा सकता है।

अंत में, जीपीएस भी लोकप्रिय है क्योंकि यह ड्राइविंग को और अधिक मजेदार बनाता है। जीपीएस के साथ, ड्राइवर मानचित्र पर अपनी प्रगति को ट्रैक कर सकते हैं और देख सकते हैं कि वे पिछली यात्राओं की तुलना में कैसा प्रदर्शन कर रहे हैं।

जीपीएस कैसे काम करता है?

ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम, या जीपीएस, उपग्रहों का एक समूह है जो पृथ्वी की परिक्रमा करता है। ये उपग्रह रेडियो संकेतों का उत्सर्जन करते हैं जिनका उपयोग रिसीवर अपने स्थान की गणना करने के लिए जमीन पर करते हैं।

रिसीवर कई उपग्रहों से संकेतों तक पहुंचने में लगने वाले समय के आधार पर अपनी स्थिति निर्धारित करने के लिए त्रिभुज का उपयोग करते हैं।

जीपीएस क्षमता

जीपीएस या ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम एक ऐसी तकनीक है जो उपग्रहों का उपयोग पृथ्वी पर किसी उपकरण के स्थान को इंगित करने के लिए करती है।

यह मूल रूप से सेना के लिए बनाया गया था लेकिन सेल फोन और कारों जैसे कई उपभोक्ता उपकरणों में एक सामान्य विशेषता बन गई है। जीपीएस का उपयोग नेविगेशन, ट्रैकिंग और अन्य अनुप्रयोगों के लिए किया जा सकता है।

हाल के वर्षों में, लापता व्यक्तियों और चोरी की वस्तुओं का पता लगाने के लिए जीपीएस का भी उपयोग किया गया है।

जीपीएस के लाभ

जीपीएस तकनीक ने एक लंबा सफर तय किया है क्योंकि इसे पहली बार सेना में इस्तेमाल किया गया था। आज, GPS का उपयोग कई तरह से किया जाता है, जिसमें नेविगेशन, ट्रैकिंग और मैपिंग शामिल हैं। यहाँ GPS का उपयोग करने के कुछ लाभ दिए गए हैं।

GPS

1. नेविगेशन: जब आप खो जाते हैं या नहीं जानते कि आप कहां जा रहे हैं तो जीपीएस नेविगेट करने का एक शानदार तरीका है। अपने फोन या डिवाइस पर बस कुछ ही क्लिक के साथ, आप अपने रास्ते पर जा सकते हैं।

2. ट्रैकिंग: जीपीएस का उपयोग आपके स्थान और गतिविधियों को ट्रैक करने के लिए किया जा सकता है। यह प्रियजनों, पालतू जानवरों या मूल्यवान वस्तुओं पर नज़र रखने में मददगार है।

3. मैपिंग: जीपीएस आपके घर से निकलने से पहले आपके मार्ग को मैप करने में आपकी सहायता कर सकता है। यह अपरिचित क्षेत्र में लंबी सड़क यात्राओं या लंबी पैदल यात्रा के लिए विशेष रूप से सहायक है।

जीपीएस के नुकसान

ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम, या जीपीएस, एक ऐसा उपकरण है जिसने नेविगेशन में क्रांति ला दी है।

यह उपयोगकर्ताओं को पृथ्वी पर अपने स्थान को इंगित करने की अनुमति देता है और कई लोगों के लिए रोजमर्रा की जिंदगी का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है। जीपीएस के जहां कई फायदे हैं, वहीं इसका इस्तेमाल करने के कुछ नुकसान भी हैं।

जीपीएस का एक नुकसान इसकी हैक होने की क्षमता है। 2009 में, टेक्सास विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं की एक टीम ने प्रदर्शित किया कि वे कैसे एक नागरिक जीपीएस सिस्टम को हैक कर सकते हैं और इसे नियंत्रित कर सकते हैं।

वे सिग्नल में हेरफेर करने में सक्षम थे ताकि उपयोगकर्ता का स्थान गलत तरीके से प्रदर्शित हो। यह संभावित रूप से किसी के खो जाने या खतरनाक स्थिति में समाप्त होने का कारण बन सकता है।

जीपीएस का एक और नुकसान उपग्रहों पर निर्भरता है। यदि उपग्रह नेटवर्क में कोई समस्या है, जैसे कि सौर भड़कना या उपग्रह की खराबी, तो हो सकता है कि उपयोगकर्ता GPS सेवाओं तक पहुँचने में सक्षम न हों।

निष्कर्ष

अंत में, जीपीएस फुल फॉर्म एक महत्वपूर्ण तकनीक है जिसके कई उपयोग हैं। इसका उपयोग कारों, फोन और अन्य उपकरणों में किया जाता है ताकि लोगों को वह जगह मिल सके जहां उन्हें जाना है।

इसका उपयोग सैन्य उद्देश्यों और अन्य महत्वपूर्ण कार्यों के लिए भी किया जाता है। पढ़ने के लिए धन्यवाद!