गैल्वेनोमीटर क्या है? | Galvanometer kya hai जानकारी हिंदी में

Advertisements

हेलो दोस्तों कैसे हो? मुझे उन्मीद हे की आप सब ठीक होंगे तो आज में आपको डिटेल के साथ बताने वाले हे की किसी भी गैल्वेनोमीटर क्या है? और Galvanometer की पूरी जानकारी हिंदी में। मुझे पूरी उन्मीद हे की आप इस आर्टिकल को सुरु से लेकर अंत तक पढ़ेंगे तो आपको कुछ भी Question नहीं रहेगा तो चलिए सुरु करते है?

गैल्वेनोमीटर एक उपकरण है जिसका उपयोग किसी सामग्री के विद्युत प्रतिरोध को मापने के लिए किया जाता है। इसमें दो धातु की प्लेटें होती हैं जो एक तार से जुड़ी होती हैं।

प्लेटों के बीच तार की गति उनके बीच प्रतिरोध को बदल देती है, इसलिए गैल्वेनोमीटर का उपयोग किसी सामग्री के माध्यम से बहने वाली बिजली की मात्रा को मापने के लिए किया जा सकता है।

गैल्वेनोमीटर एक उपकरण है जो विद्युत प्रवाह में वोल्टेज परिवर्तन को मापता है, या इसके विपरीत। इसका उपयोग कई विद्युत मापों में किया जाता है, जैसे गैल्वेनोमीटर विक्षेपण और हॉल प्रभाव माप।गैल्वेनोमीटर ऐसे उपकरण हैं।

जिनका उपयोग विद्युत प्रवाह के वोल्ट को मापने के लिए किया जाता है। वे वोल्टेज में गति या परिवर्तन का पता लगाने के लिए सर्किट में सेंसर के रूप में भी उपयोग किए जाते हैं।

Contents

गैल्वेनोमीटर क्या है?

गैल्वेनोमीटर एक उपकरण है जिसका उपयोग कंडक्टर के चारों ओर विद्युत क्षेत्र को मापने के लिए किया जाता है। इसमें दो धातु प्लेट और एक जंगम संपर्क होता है।

गैल्वेनोमीटर क्या है?

Advertisements

विद्युत क्षेत्र चल संपर्क को स्थानांतरित करने का कारण बनता है, जिसे विद्युत प्रवाह के रूप में व्याख्या किया जा सकता है।गैल्वेनोमीटर एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जिसका उपयोग करंट के छोटे मूल्यों को मापने के लिए किया जाता है।

यह एक मूविंग कॉइल टाइप इलेक्ट्रोमैग्नेटिक डिवाइस है जो अपने चुंबकीय सेंसर के रूप में तार के कॉइल का उपयोग करता है। जब विद्युत धारा कुंडली से प्रवाहित होती है, तो यह कुंडली के चारों ओर एक चुंबकीय क्षेत्र बनाती है।

इस क्षेत्र को मापा जा सकता है और कुंडल के माध्यम से बहने वाली धारा के परिमाण की गणना के लिए उपयोग किया जा सकता है। गैल्वेनोमीटर का उपयोग अक्सर विद्युत परीक्षण और उपकरण में किया जाता है।

गैल्वेनोमीटर का सिद्धांत

गैल्वेनोमीटर एक उपकरण है जो विद्युत प्रवाह द्वारा उत्पन्न वोल्टेज को मापता है। गैल्वेनोमीटर का सिद्धांत इस तथ्य पर आधारित है कि एक धातु कंडक्टर का प्रतिरोध अन्य धातुओं से मुक्त होने की तुलना में किसी अन्य धातु के संपर्क में होने पर अधिक होता है।

गैल्वेनोमीटर का सिद्धांत एक प्रेरित वोल्टेज लागू होने पर एक कंडक्टर के माध्यम से वर्तमान को मापना है। गैल्वेनोमीटर में दो कुंडल होते हैं, प्रत्येक में एक निश्चित ओमिक प्रतिरोध और एक मुक्त कुंडल होता है।

जब मुक्त कुंडल अपनी संतुलन स्थिति से विस्थापित हो जाता है, तो यह स्थिर कुंडल में एक इलेक्ट्रोमोटिव बल उत्पन्न करता है। इस प्रेरित इलेक्ट्रोमोटिव बल को गैल्वेनोमीटर द्वारा मापा जा सकता है और कंडक्टर के माध्यम से वर्तमान की गणना करने के लिए उपयोग किया जाता है।

गैल्वेनोमीटर का परिभाषा

गैल्वेनोमीटर: तांबे के इंसुलेटेड तार का एक कुंडल जिसमें एक पतले तार में कई घुमावों की व्यवस्था की जाती है जिसे वाइंडिंग कहा जाता है। जब कुंडली से विद्युत धारा प्रवाहित होती है, तो यह चुंबकीय क्षेत्र को मोड़ देती है।

Galvanometer के Main Components क्या है?

गैल्वेनोमीटर एक वैज्ञानिक उपकरण है जिसका उपयोग सामग्री के विद्युत प्रतिरोध को मापने के लिए किया जाता है। इसमें दो धातु की प्लेट होती हैं जो एक हाथ या तार से जुड़ी होती हैं।

हाथ को धातु की प्लेटों पर आगे और पीछे ले जाया जाता है, और बांह से बहने वाली धारा की मात्रा प्लेटों के बीच विद्युत प्रतिरोध को बदल देती है। यह प्रतिरोध तापमान से भी प्रभावित होता है, इसलिए तापमान को मापने के लिए गैल्वेनोमीटर का भी उपयोग किया जा सकता है।

Moving Coil Galvanometer की Sensitivity क्या है?

इस प्रश्न का कोई एक उत्तर नहीं है क्योंकि यह विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है, जिसमें वह विशिष्ट अनुप्रयोग भी शामिल है जिसके लिए गैल्वेनोमीटर का उपयोग किया जा रहा है।

हालांकि, सामान्य तौर पर, अधिकांश मूविंग कॉइल गैल्वेनोमीटर काफी संवेदनशील होते हैं और इनपुट वोल्टेज में अपेक्षाकृत छोटे बदलावों से प्रभावित हो सकते हैं।

इसका मतलब यह है कि वे उन अनुप्रयोगों में उपयोग के लिए उपयुक्त हैं जिनके लिए सटीक माप की आवश्यकता होती है, जैसे कि उपकरण या नियंत्रण प्रणाली में शामिल।

Galvanometer के प्रकार

  1. सभी गैल्वेनोमीटर विद्युत चुंबकत्व के सिद्धांतों पर आधारित होते हैं।
  2. गैल्वेनोमीटर के दो बुनियादी प्रकार हैं: वोल्टाइक और चुंबकीय।
  3. एक वोल्टीय गैल्वेनोमीटर सुई को स्थानांतरित करने के लिए विद्युत प्रवाह का उपयोग करता है, जबकि चुंबकीय गैल्वेनोमीटर ऐसा करने के लिए चुंबकीय क्षेत्र पर निर्भर करता है।
  4. गैल्वेनोमीटर का उपयोग विभिन्न प्रकार के भौतिक गुणों को मापने के लिए किया जा सकता है, जिसमें वोल्टेज और वर्तमान स्तर, प्रतिरोध और चुंबकीय क्षेत्र की ताकत शामिल है।
  5. गैल्वेनोमीटर का उपयोग विभिन्न वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग अनुप्रयोगों में भी किया जाता है, जिसमें विकिरण का पता लगाना, भूकंप विज्ञान और परमाणु रिएक्टर की निगरानी शामिल है।

गैल्वेनोमीटर से क्या मापा जाता है

गैल्वेनोमीटर एक मानक वैज्ञानिक उपकरण है जो किसी सामग्री के विद्युत प्रतिरोध को मापता है। उपकरण में दो कॉइल और एक पॉइंटर होता है।

जब पॉइंटर को कॉइल के ऊपर ले जाया जाता है, तो उनमें से एक विद्युत प्रवाह प्रवाहित होता है और करंट प्रवाह की मात्रा कॉइल्स के बीच प्रतिरोध को बदल देती है।

प्रतिरोध में यह परिवर्तन एक डायल का उपयोग करके मापा जाता है और डिस्प्ले स्क्रीन पर प्रदर्शित होता है।

Galvanometer के Advantages

  1. गैल्वेनोमीटर का उपयोग विभिन्न प्रकार के अनुप्रयोगों में किया जाता है, जिसमें वैज्ञानिक अनुसंधान और औद्योगिक निर्माण शामिल हैं।
  2. उनका उपयोग वोल्टेज और करंट, साथ ही चुंबकीय क्षेत्रों को मापने के लिए किया जा सकता है।
  3. उनका उपयोग रक्षा अनुप्रयोगों में भी किया जाता है, जैसे बम और खानों का पता लगाना।
  4. गैल्वेनोमीटर विश्वसनीय रीडिंग उत्पन्न करते हैं जो शोर या हस्तक्षेप से अप्रभावित रहते हैं।
  5. इनका उपयोग करना आसान है और इन्हें किसी भी प्रकार के एप्लिकेशन या सिस्टम में फिट किया जा सकता है।

    Galvanometer के Disadvantages

    गैल्वेनोमीटर एक संवेदनशील उपकरण है जिसका उपयोग दो बिंदुओं के बीच विद्युत संभावित अंतर को मापने के लिए किया जाता है। इसके कई नुकसान हैं, जिनमें से कुछ हैं:

  1. छोटे वोल्टेज को मापते समय गैल्वेनोमीटर बहुत सटीक नहीं हो सकता है, और इसे स्थिर रखना मुश्किल हो सकता है।
  2. गैल्वेनोमीटर विद्युत ऊर्जा को यांत्रिक गति में परिवर्तित करने में बहुत कुशल नहीं है, इसलिए मापने योग्य प्रतिक्रिया उत्पन्न करने में लंबा समय लग सकता है।
  3. क्योंकि गैल्वेनोमीटर गति उत्पन्न करने के लिए विद्युत प्रवाह पर निर्भर करता है, यह कुछ सामग्रियों या उच्च तापमान पर काम नहीं कर सकता है।
  4. अंत में, गैल्वेनोमीटर अन्य विद्युत स्रोतों से हस्तक्षेप के लिए अतिसंवेदनशील है, इसलिए माप एक स्वच्छ वातावरण में लिया जाना चाहिए।

Galvanometer और Ammeter में क्या अंतर है?

गैल्वेनोमीटर और एमीटर में क्या अंतर है?

गैल्वेनोमीटर उनके माध्यम से बहने वाली धारा की मात्रा को मापते हैं, जबकि एमीटर वोल्टेज को मापते हैं।

गैल्वेनोमीटर का उपयोग विद्युत परिपथों में धाराओं को मापने के लिए किया जाता है, जबकि एमीटर का उपयोग बैटरी और अन्य विद्युत प्रणालियों में वोल्टेज के स्तर को मापने के लिए किया जाता है।

  1. गैल्वेनोमीटर और एमीटर दो प्रकार के विद्युत मीटर हैं। वे वर्तमान को मापने के तरीके में भिन्न हैं, लेकिन दोनों उपकरणों का उपयोग विद्युत धाराओं को मापने के लिए किया जाता है।
  2. गैल्वेनोमीटर आमतौर पर तार का एक तार होता है जिसे तेल या पानी के घोल में लटकाया जाता है। कॉइल के माध्यम से करंट के कारण उपकरण के धातु के हिस्से हिल जाते हैं और एक संकेत देते हैं जिसे डायल या स्क्रीन पर पढ़ा जा सकता है।
  3. एक एमीटर विद्युत चुम्बक द्वारा प्रति सेकंड भेजे गए स्पंदों की संख्या की गणना करके उसमें से प्रवाहित होने वाली धारा की मात्रा को मापता है। इसका उपयोग यह जांचने के लिए किया जा सकता है कि कोई विद्युत परिपथ इससे खींची जा रही धारा की मात्रा को मापकर ठीक से काम कर रहा है या नहीं।

विद्युत परिपथ में गैल्वेनोमीटर का क्या कार्य होता है?

गैल्वेनोमीटर एक विद्युत घटक है जो अपने टर्मिनलों में वोल्टेज को मापता है। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि यह हमें एक सर्किट से गुजरने वाले करंट (इलेक्ट्रॉनों के प्रवाह) को मापने की अनुमति देता है।

गैल्वेनोमीटर का उपयोग संक्षेप में समझाने के लिए क्या किया जाता है

गैल्वेनोमीटर एक उपकरण है जिसका उपयोग इसके माध्यम से बहने वाली बिजली की मात्रा को मापने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग संक्षेप में यह समझाने के लिए किया जाता है कि बिजली कैसे काम करती है।

गैल्वेनोमीटर वर्तमान में क्या अंतर है?

गैल्वेनोमीटर करंट एक गैल्वेनोमीटर के माध्यम से विद्युत प्रवाह का प्रवाह है। इसे एम्पीयर या मिलीएम्प्स में मापा जाता है। गैल्वेनोमीटर करंट और अन्य प्रकार की धाराओं के बीच मुख्य अंतर यह है कि गैल्वेनोमीटर करंट केवल एक दिशा में बहता है।

गैलवेनोमीटर का प्रतिरोध G और वोल्टमीटर का प्रतिरोध V के बीच निम्नलिखित में कौन संबन्ध सही है?

सर्किट के प्रतिरोध को देखते समय, यह समझना महत्वपूर्ण है कि विभिन्न प्रतिरोधक एक दूसरे से कैसे संबंधित हैं। इस लेख में, हम देखेंगे कि गैल्वेनोमीटर और वोल्टमीटर का प्रतिरोध कैसे संबंधित है। इन दो उपकरणों के बीच संबंध निम्नलिखित आरेख में दिखाया गया है:

गैल्वेनोमीटर का प्रतिरोध G वोल्टेज V के व्युत्क्रमानुपाती होता है। इसका मतलब है कि जैसे-जैसे V बढ़ता है, G घटता है और इसके विपरीत।

गैल्वेनोमीटर को वोल्ट मीटर में कैसे परिवर्तित करते हैं?

हाल के वर्षों में तंत्रिका विज्ञान के अध्ययन ने एक लंबा सफर तय किया है और इसके साथ ही मस्तिष्क के बारे में नई खोजें भी हुई हैं।

ऐसी ही एक खोज है मन और शरीर के बीच संबंध। इस संबंध को न्यूरोप्लास्टिकिटी के रूप में जाना जाता है और यह अनुभव के आधार पर मस्तिष्क की संरचना और कार्य को बदलने की क्षमता को संदर्भित करता है।

न्यूरोप्लास्टिकिटी वयस्कों और बच्चों दोनों में देखी जा सकती है, जिसका अर्थ है कि हर किसी के पास विकास और विकास की क्षमता है।

एक अध्ययन में पाया गया कि नियमित रूप से व्यायाम करने वाले वयस्कों ने व्यायाम न करने वालों की तुलना में हिप्पोकैम्पस की मात्रा में वृद्धि देखी – मस्तिष्क का एक क्षेत्र जो स्मृति निर्माण के लिए महत्वपूर्ण है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, इससे पता चलता है कि व्यायाम हिप्पोकैम्पस के आकार को बढ़ाकर संज्ञानात्मक कार्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि जिन बच्चों ने सप्ताह में कम से कम दो घंटे वीडियो गेम खेला, उनके दिमाग में ध्यान, स्मृति और समस्या समाधान से जुड़े क्षेत्रों के बीच संपर्क बढ़ गया था।

गैल्वेनोमीटर का उपयोग धातु के तारों या अन्य विद्युत कंडक्टरों के प्रतिरोध को मापने के लिए किया जाता है। गैल्वेनोमीटर को वोल्टमीटर में बदलने के लिए, गैल्वेनोमीटर के वोल्टेज और करंट मानों को जानना आवश्यक है।

वोल्टेज की गणना करने के लिए, वर्तमान मान को धातु की प्रतिरोधकता से विभाजित करें।

धारामापी की सुग्राहिता से क्या तात्पर्य है?

जब छोटे आंदोलनों को मापने की बात आती है, तो संवेदनशीलता एक महत्वपूर्ण कारक है। यही कारण है कि जब गति या स्थिति में परिवर्तन का पता लगाने की बात आती है तो गैल्वेनोमीटर रीडिंग बहुत महत्वपूर्ण होती है।

सरल शब्दों में, गैल्वेनोमीटर की संवेदनशीलता मापती है कि उसकी सुई कितनी सटीक रूप से गति के प्रति प्रतिक्रिया करती है। उच्च संवेदनशीलता का मतलब है कि उपकरण कम संवेदनशीलता वाले की तुलना में छोटे आंदोलनों का पता लगा सकता है।

दूसरे शब्दों में, एक संवेदनशील गैल्वेनोमीटर आपको कम संवेदनशील द्वारा उत्पादित रीडिंग की तुलना में अधिक सटीक और सटीक रीडिंग देगा।

यह महत्वपूर्ण है क्योंकि इसका मतलब है कि गति या स्थिति में छोटे बदलाव होने पर भी आप सटीक रीडिंग प्राप्त कर सकते हैं। उपकरण निर्माता आमतौर पर गेज प्रति इंच (जी/इन) के संदर्भ में अपने गेज की संवेदनशीलता निर्दिष्ट करते हैं।

निष्कर्ष

अंत में, गैल्वेनोमीटर वैज्ञानिक अनुसंधान में एक महत्वपूर्ण उपकरण है। इसका उपयोग प्रतिरोध और समाई सहित विभिन्न भौतिक गुणों को मापने के लिए किया जा सकता है।

अपनी बहुमुखी प्रतिभा के साथ, गैल्वेनोमीटर हर जगह वैज्ञानिकों के लिए एक मूल्यवान उपकरण है।

गैल्वेनोमीटर एक निफ्टी उपकरण है जिसका उपयोग विभिन्न भौतिक गुणों को मापने के लिए किया जा सकता है। यह एक सस्ता और पोर्टेबल उपकरण है जिसका उपयोग विभिन्न सेटिंग्स में किया जा सकता है।

इसलिए यदि आप धातुओं, प्लास्टिक, या अन्य पदार्थों के गुणों का परीक्षण करने का कोई तरीका खोज रहे हैं, तो गैल्वेनोमीटर एक बढ़िया विकल्प है।