CSS full form – CSS का फुल फॉर्म क्या होता है? CSS की पूरी जानकारी

Advertisements

हेलो फ्रेंड्स, आज के इस पोस्ट में हम आपको CSS का फुल फॉर्म बताएगे, CSS के फुल के साथ ही CSS से संबधित अन्य जानकारी को भी हासिल करेंगे। जैसे CSS क्या होता है, CSS कैसे काम करता है, CSS की जरूर क्या है, CSS का महत्व क्या होता है, आदि।

अगर आप डेवलपर हो तो आपको CSS के बारे में जरूर जानकारी होगी। हम आपको बता दे की यदि आप कोडन को सीखना चाहते है तो आपको CSS के बारे में जरूर पता होना चाहिए।

CSS का फुल फॉर्म क्या होता है? (What is the full form of CSS?)

सबसे पहले हम यह जान लेते है कि CSS का फुल फॉर्म क्या होता है हिंदी और इंग्लिड दोनों भाषा में। Full form of CSS is Cascading Style Sheets in english, वही हिंदी में CSS का फुल फॉर्म कैस्केडिंग स्टाइल शीट्स होता है।

CSS, या कैस्केडिंग स्टाइल शीट्स, एक स्टाइल शीट भाषा है जिसका उपयोग मार्कअप भाषा में लिखे गए दस्तावेज़ की प्रस्तुति का वर्णन करने के लिए किया जाता है। CSS का उपयोग सभी HTML टैग और विशेषताओं के साथ-साथ XML तत्वों और विशेषताओं को स्टाइल करने के लिए किया जा सकता है। वेब पेजों को एक सुसंगत रूप और अनुभव देने के लिए वेब पर इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। CSS आपको किसी पृष्ठ पर तत्वों के रंग, फ़ॉन्ट, आकार और स्थिति को आसानी से बदलने की अनुमति देता है।

CSS को मूल रूप से HTML दस्तावेज़ों के उपयोग के लिए डिज़ाइन किया गया था, लेकिन तब से इसे अन्य मार्कअप भाषाओं के साथ भी काम करने के लिए बढ़ा दिया गया है। आज, अधिकांश वेबसाइटें अपनी उपस्थिति को बेहतर बनाने के लिए कम से कम CSS के किसी न किसी रूप का उपयोग करती हैं। यदि आप सीएसएस के बारे में अधिक जानना चाहते हैं या इसे अपनी परियोजनाओं में कैसे उपयोग करना चाहते हैं, तो ऑनलाइन बहुत सारे संसाधन उपलब्ध हैं।

Full FormCategoryTerm
Cascading Style SheetProgramming LanguageCSS
Closed Source SoftwareInformation TechnologyCSS
Central Secretariat ServiceMinistry of PersonnelCSS
Confederate States ShipMilitary and DefenceCSS
Comprehensive Smoke StudyMilitary and DefenceCSS
College of St ScholasticaEducational InstituteCSS
Corrected Sum of SquaresMathsCSS
CassilandiaAirport CodeCSS
Carrier Sense SystemRadio ScienceCSS
Community Service SpecialistJob TitleCSS
Core Segment SimulatorSpace ScienceCSS
Control Stick SteeringSpace ScienceCSS
Core System SoftwareSoftwaresCSS
Cascade Style SheetFile TypeCSS
Circuit-switched CellularNetworkingCSS
Customer Service SystemTelecommunicationCSS

CSS क्या होता है? (What is CSS?)

CSS का फुल फॉर्म जानने के बाद आपके मन में एक सवाल आ सकता है कि CSS क्या होता है? तो हम आपको बता दे कि CSS एक कोडिंग की भाषा होती है, जो की किसी भी वेब पेज के डिज़ाइन को निर्धारित करती है। वेब पेज का डिज़ाइन जैसे कि रंग, शब्दों का फ़ॉन्ट, एलिमेंट का साइज, आदि।

अगर टेक्निकल शब्दों में बताए तो CSS एक स्टाइल शीट लैंग्वेज (style sheet language) होता है, जो की HTML में कोडिंग किए हुए डॉक्यूमेंट को सजाने और उनके लुक को यूजर के सामने बढ़ाने का काम करता है। आज के समय जितने भी वेबसाइट इंटरनेट की दुनिया में मौजूद है सभी में CSS का इस्तेमाल किया हुआ है। इसको इंटरनेट की दुनिया का कमर भी कहा जाता है। बिना CSS के कोई भी वेबसाइट यूजर के देखने लायक नहीं होती है।

CSS का काम क्या होता है? (What is the function of CSS?)

किसी भी वेबपेज को बनाने के लिए दो चीज काफी जरूरी होता है एक HTML और दूसरा CSS. HTML का फुल फॉर्म Hypertext Markup Language जो की वेब पेज का ढांचा होता है तो वही CSS वेब पेज का डिज़ाइन होता है।

CSS का काम वेबपेज के डिज़ाइन को तय करना होता है, जैसे कौन सा लाइन कितना बड़ा होगा, कहा-कहा कौन सा रंग होगा, किसी एलिमेंट का कौन सा लोकेशन होगा, आदि। आसान शब्दों में CSS का काम वेब पेज/वेबसाइट की सुंदरता को बढ़ाना होता है।

CSS का उदाहरण (example of css)

चलिए अब हम आपको CSS code का एक उदाहरण देते है जिससे आपको CSS काफी हद तक समझ आ जाएगा।

body {
  background-color: #E7E9EB;
}

h1 {
  color: #000000;
  text-align: center;
}

p {
  font-family: verdana;
  font-size: 17px;
}
#---second code-------#
.center {
  text-align: center;
  color: red;
}
h1 {
  text-align: center;
  color: red;
}

h2 {
  text-align: left;
  color: red;
}

p {
  text-align: center;
  color: red;
}

हमने आपको ऊपर जो CSS का कोड बताया है वह दो अलग-अलग प्रकार के कोड है। पहले वाले कोड को HTML फाइल में ही रखा जाता है। वही दूसरे वाले कोड के लिए एक अलग से फाइल/फोल्डर बनाया जाता है। इसको .css करके सेव किया जाता है।

हम आपको यह भी बता दे कि अधिकतर डेवलपर द्वारा पहले तरीके का इस्तेमाल नहीं किया जाता है क्योंकि हर एक वेबपेज को बनाने के लिए कोड़ लिखना होता है। वही दूसरे वाले तरीके में एक ही फाइल के कोड को अनेक वेबपेज में इस्तेमाल किया जा सकता है।

ध्यान दे: एक वेबसाइट में सेव किया हुआ एक CSS फाइल ही अनेक वेबपज के लिए इस्तेमाल हो सकता है। न की एक वेबसाइट के लिए सेव किया हुआ CSS फाइल दूसरे वेबसाइट के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

CSS की जरूरत क्या है? (What is the need of CSS?)

CSS की एक मुख्य जरूरत वेब पेज के डिजाइन को बनाने में है। यदि वेबपेज का डिज़ाइन अच्छा नहीं होगा तो लोग उसके पसंद नहीं करेंगे। हम आपको बता दे कि बिना CSS के वेबसाइट का डिज़ाइन नहीं बनाया जा सकता है। चाहे आप हो या हम हो, हर कोई ज्यादा अच्छा दिखने वाले सामान को ही पसंद करते है। इसी लिए हर एक कंपनी अपने सामान को पहले से सुंदर करती रहती है। ठीक इसी तरह से वेबसाइट को सुंदर करने के लिए CSS की जरूरत होती है।

CSS का उद्देश्य किसी दस्तावेज़ की सामग्री को लेआउट और प्रारूपित करना है ताकि स्क्रीन पर प्रदर्शित होने या प्रिंट आउट होने पर यह अच्छा लगे। CSS वेबपेजों तक सीमित नहीं है; आप इसका उपयोग किसी भी दस्तावेज़ को स्टाइल करने के लिए कर सकते हैं, जिसमें XML, PDF, Markdown और अन्य प्रारूपों में लिखे गए दस्तावेज़ शामिल हैं।

CSS का उपयोग शुरू करने के लिए, आपको सबसे पहले स्टाइल के साथ दस्तावेज़ लिखने के लिए उपयोग की जाने वाली मार्कअप भाषा की मूल बातें सीखनी होंगी। फिर आप सीएसएस सिंटैक्स का उपयोग करके अपने दस्तावेज़ों के लिए शैली बनाने के लिए इन्हीं मूल टैग का उपयोग कर सकते हैं।

CSS का फायदा (Advantages of CSS)

CSS का फायदा एक डेवलपर को ही पता होता है, CSS की मदद से डेवलपर वेब पेज को अच्छा डिज़ाइन तो दे ही सकता है लेकिन इसके साथ ही CSS की मदद से घंटो का काम मिनटों में कर लेता है।

चलिए इसको आसान भाषा में समझते हैं, CSS को दो तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है। पहला हर एक वेब पेज में CSS लिखा जाए तो दूसरा एक बार ही CSS का कोड लिखा जाए, उसके बाद पूरी वेबसाइट के लिए उस CSS का इस्तेमाल किया जाए। दूसरा तरीका ही वेब डेवलपर इस्तेमाल करते है।

  • वेबसाइट की स्पीड अच्छी हो जाती है क्योंकि कम कोड से ज्यादा डिज़ाइन हो जाता है।
  • इसमें बदलाव करना आसान होता है। बस एक लाइन को बदलने से पूरा लुक बदल सकता है।
  • डेवलपर का समय बचता है।
  • इससे रेस्पॉन्सिव वेबसाइट बनाना आसान हो जाता है। मोबाइल और कंप्यूटर दोनों में अलग-अलग लुक दिया जा सकता है।
  • यूजर एक्सपीरियंस को बेहतर किया जा सकता है।

किसी वेब पेज का CSS कैसे जानें? (How to know CSS of a web page?)

क्या आपको पता है कि किसी भी वेबसाइट या वेब पेज का CSS आप जान सकते है, इसके लिए सबसे पहले अपने ब्राउज़र में आपको उस वेब पेज को खोलना होगा। जिसका CSS आप जानना चाहते है।

उसके बाद आप अपने माउस के राइट बटन को क्लिक करिए। अब आपके सामने कई ऑप्शन आ चूका होगा। उसी ऑप्शन में नीचे आपको ‘inspect’ ऑप्शन देखने को मिल रहा होगा।

उस पर क्लिक करते ही उस वेबपेज का पूरा कोड आपके सामने आ जाएगा। इसके अलावा दूसरे ऑप्शन में आपको अपने कीबोर्ड में ctrl+U बटन को क्लिक करना है।

इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलेगा, जिसमे आपको उस वेबपेज का कोड देखने को मिल जाएगा।

Internal CSS क्या होता है? (What is Internal CSS?)

जब एक ही फाइल में HTML और CSS दोनों होता है तो इसको Internal CSS कहा जाता है। अधिकतर बार Internal CSS वेब पेज के ऊपरी हिस्से में पाया जाता है। इस टैग से पहले होता है। दूसरे शब्द में Internal CSS और के बीच होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि पहले CSS लोड हो जाने से लुक जल्दी से सही हो जाता है। Internal CSS के लिए सर्वर पर कोई फाइल नहीं होता है। यह .html वाले फाइल/फोल्डर में मौजूद होता है।

External CSS क्या होता है? (What is External CSS)

जब CSS का फाइल अलग होता है, न तो HTML और न ही किसी अन्य code के साथ होता है तो उसे External CSS कहा जाता है। External CSS का फाइल .CSS के नाम से सर्वर पर सेव होता है।

html फाइल में External CSS को जोड़ने के लिए css का यूआरएल इस्तेमाल किया जाता है। उसके सोर्स यूआरएल को हेड में जोड़ दिया जाता है। इसके बाद जिस एलिमेंट में जिस css टैग का इस्तेमाल करना तो बस उस टैग को लिख दिया जाता है। अपने हिसाब से डेवलपर कोई भी टैग बना सकता है।

CSS Full Form FAQ’s

Full form of CSS is Cascading Style Sheets in english, वही हिंदी में CSS का फुल फॉर्म कैस्केडिंग स्टाइल शीट्स होता है।
CSS एक भाषा होती है, जो की किसी भी वेब पेज के डिज़ाइन को निर्धारित करती है। वेब पेज का डिज़ाइन जैसे कि रंग, शब्दों का फ़ॉन्ट, element का साइज, आदि।
CSS का काम वेबपेज के डिज़ाइन को तय करना होता है
CSS की एक मुख्य जरूरत है वेब पेज के डिजाइन को बनाने में।
जब एक ही फाइल में HTML और CSS दोनों होता है तो इसको Internal CSS कहा जाता है।
जब CSS का फाइल अलग होता है, न तो HTML और न ही किसी अन्य code के साथ होता है तो उसे External CSS कहा जाता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

आज के पोस्ट में हमने CSS का फुल फॉर्म जाना, इसके साथ ही हमें CSS कोड का एक उदाहरण भी देखा। इसके अलावा हमने आपको CSS से जुडी ऐसे जानकारी भी दी जिसको जानना काफी जरूरी होता है।

क्या आप CSS को सीखना चाहते है या आपने CSS को सीखना शुरू कर दिया है? आप अपने विचार हमारे साथ कमेंट करके शेयर कर सकते है।

हम उम्मीद करते है कि अब आपको CSS का फुल फॉर्म और CSS क्या है समझ में आ गया होगा। यदि किसी को इस पोस्ट की जरूरत हो तो जरूर शेयर करें।

और पढ़े ::

Full Form Of CA हिंदी में

WHO Full Form हिंदी में

PR Full Form हिंदी में

TI Full Form हिंदी में