भारत की सबसे ऊंची चोटि | Bharat ki Sabse Unchi choti Kaun si hai in Hindi

कंचनजंगा दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची पर्वत चोटी है और भारत में स्थित है। चोटी 8586 मीटर ऊंची है और कंचनजंगा रेंज का हिस्सा है। पहाड़ पर पहली बार 1955 में जो ब्राउन और जॉर्ज बैंड ने चढ़ाई की थी।

भारत में सबसे ऊंची चोटियों की सूची:

कंचनजंगा चोटी ( 8586 मीटर)

कंचनजंगा दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची पर्वत चोटी है और हिमालय में स्थित है। कंचनजंगा भारत-नेपाल सीमा का हिस्सा है। इस चोटी की पहली सफल चढ़ाई 1955 में जो ब्राउन और जॉर्ज बैंड ने की थी।

कंचनजंगा अपने कठिन इलाके और ऊंचाई के लिए जाना जाता है। पर्वत का शिखर समुद्र तल से 8,586 मीटर ऊपर है। पहाड़ की कई चोटियाँ हैं, जिनमें से मुख्य शिखर को कंचनजंगा सेंट्रल कहा जाता है। पहाड़ पर कई ग्लेशियर भी हैं, जिनमें यालुंग ग्लेशियर और कंचनजंगा ग्लेशियर शामिल हैं।

कंचनजंगा के आसपास का क्षेत्र बहुत कम आबादी वाला है और इस क्षेत्र में कुछ ही गांव हैं। पहाड़ का निकटतम शहर तपलेजंग है, जो नेपाल में स्थित है।

भूगोल

कंचनजंगा दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची पर्वत चोटी है, और यह पूर्वी हिमालय में नेपाल और भारत की सीमा पर स्थित है। पर्वत समुद्र तल से 28,169 फीट (8,586 मीटर) ऊपर उठता है और पर्वतारोहियों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है। कंचनजंगा में पाँच चोटियाँ हैं, जिनमें से सभी 26,000 फीट (7,925 मीटर) से अधिक ऊँची हैं। मुख्य शिखर, कंचनजंगा मुख्य शिखर, विश्व की तीसरी सबसे ऊँची चोटी है।

कंचनजंगा की पहली सफल चढ़ाई 1955 में जो ब्राउन के नेतृत्व में एक ब्रिटिश अभियान द्वारा की गई थी। तब से, चोटी पर चढ़ने के कई असफल प्रयास हुए हैं। सबसे हालिया प्रयास 2016 में भारतीय पर्वतारोहियों की एक टीम द्वारा किया गया था, जिन्हें खराब मौसम के कारण वापस लौटने के लिए मजबूर होना पड़ा था।

नंदा देवी चोटी (7816 मीटर)

नंदा देवी हिमालय में एक पर्वत और भारत की दूसरी सबसे ऊंची पर्वत चोटी है। 7,816 मीटर (25,643 फीट) की ऊंचाई पर, यह गढ़वाल हिमालय की सबसे ऊंची पर्वत चोटी भी है। नंदा देवी पर पहली बार 9 मई, 1936 को फ्रैंक स्मिथ, एरिक शिप्टन और बिल टिलमैन ने चढ़ाई की थी।

भूगोल

नंदा देवी भारत के गढ़वाल हिमालय में एक पर्वत है, और 7,816 मीटर (25,643 फीट) की ऊंचाई के साथ, यह देश की सबसे ऊंची चोटी है। इस पहाड़ पर पहली बार 1936 में एक ब्रिटिश अभियान ने चढ़ाई की थी। नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान, जो पहाड़ को घेरता है, की स्थापना 1982 में इसके नाजुक वातावरण की रक्षा के लिए की गई थी।

इतिहास

नंदा देवी भारत की सबसे ऊँची पर्वत चोटी है, जिसकी ऊँचाई 7,816 मीटर (25,643 फीट) है। इस पर्वत पर पहली बार 1936 में अंग्रेजी पर्वतारोही बिल टिलमैन और नोएल ओडेल ने चढ़ाई की थी। नंदा देवी गढ़वाल हिमालय का हिस्सा है, और उत्तराखंड राज्य में स्थित है। पहाड़ में कई ग्लेशियर हैं, जिनमें ऋषि ग्लेशियर और पिंडारी ग्लेशियर शामिल हैं।

वनस्पति और जीव

यह उत्तराखंड राज्य में हिमालय में स्थित है। पर्वत चोटियों के एक समूह का हिस्सा है जिसे नंदा देवी अभयारण्य कहा जाता है। यह क्षेत्र लुप्तप्राय प्रजातियों सहित विभिन्न प्रकार के वनस्पतियों और जीवों का घर है।

नंदा देवी की ढलानें ओक, रोडोडेंड्रोन और जुनिपर के जंगलों से आच्छादित हैं। जंगली बकरियों, भेड़ों और याक के झुंड भी हैं। पहाड़ काले भालू, हिम तेंदुए और भूरे भालू का घर है। चील और गिद्ध सहित पक्षियों की कई किस्में भी हैं।

नंदा देवी चोटी के आसपास का क्षेत्र एक राष्ट्रीय उद्यान और यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है। पार्क की स्थापना 1982 में क्षेत्र के प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा के लिए की गई थी।

पर्यटन

नंदा देवी एक चुनौतीपूर्ण चढ़ाई है, जिसकी ऊंचाई 7816 मीटर (25,643 फीट) है।

नंदा देवी की पहली सफल चढ़ाई 1936 में अंग्रेजी पर्वतारोही बिल टिलमैन और नोएल ओडेल ने की थी। उनके द्वारा लिया गया मार्ग आज भी उपयोग किया जाता है, और इसे दुनिया की सबसे कठिन चढ़ाई में से एक माना जाता है। नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान, जो पर्वत शिखर के चारों ओर है, पर्वतारोहियों और पैदल यात्रियों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है।

कामेट चोटी (7756 मीटर)

कामेट चोटी गढ़वाल हिमालय, उत्तराखंड, भारत में स्थित है। यह भारत की सबसे ऊँची पर्वत चोटी है जो हिमालय पर्वत श्रृंखला में स्थित नहीं है। कामेट चोटी 7756 मीटर (25,446 फीट) की ऊंचाई के साथ एक चुनौतीपूर्ण चढ़ाई है। कामेट पीक की पहली चढ़ाई 1931 में एक ब्रिटिश अभियान दल द्वारा की गई थी।

चढ़ाई के रास्ते

चोटी उत्तराखंड राज्य में गढ़वाल हिमालय में स्थित है। शिखर पर चढ़ने के कई रास्ते हैं, लेकिन सबसे लोकप्रिय मार्ग रूपकुंड झील से पूर्वोत्तर रिज के माध्यम से है। दृष्टिकोण में झील के लिए अल्पाइन घास के मैदानों और ग्लेशियरों के माध्यम से एक लंबी वृद्धि शामिल है, और फिर शिखर तक ग्लेशियर पर एक खड़ी चढ़ाई शामिल है। अन्य मार्गों में दक्षिण-पश्चिम से बेदनी बुग्याल के रास्ते और कामेट पीक से द्रोणागिरी पीक तक का रास्ता शामिल है।

कामेट पीक पर चढ़ने के लिए साल का सबसे अच्छा समय गर्मियों के अंत या शुरुआती गिरावट है जब स्थितियां सबसे अच्छी होती हैं। हालांकि, परिस्थितियों के आधार पर इसे साल भर चढ़ाई जा सकती है।

कैम्पिंग

कामेट पीक भारत के गढ़वाल हिमालय में स्थित एक सुंदर, शांत पर्वत है। 26,597 फीट की ऊंचाई पर यह देश की चौथी सबसे ऊंची चोटी है। शिखर तक की चढ़ाई लंबी और कठिन है, लेकिन आसपास के पहाड़ों और घाटियों के दृश्यों के लिए इसके लायक है।

कामेट पीक के शिखर के पास कैम्पिंग उपलब्ध है, जो इसे उन लोगों के लिए एक शानदार गंतव्य बनाता है जो कुछ प्राणी आराम के साथ संयुक्त साहसिक कार्य की तलाश में हैं। आसपास के क्षेत्र के अच्छे दृश्यों के साथ कई शिविर क्षेत्र हैं। ठंड के मौसम के लिए उचित रूप से पैक करना सुनिश्चित करें, क्योंकि रात में तापमान ठंड से नीचे गिर सकता है।

कामेट पीक एक चुनौतीपूर्ण लेकिन फायदेमंद वृद्धि है जिसे केवल अनुभवी पर्वतारोहियों द्वारा ही किया जाना चाहिए। शिखर सम्मेलन के विचार भारत में सबसे अच्छे हैं, जो इसे शीर्ष पर पहुंचने में शामिल प्रयास के लायक बनाते हैं।

निष्कर्ष

निष्कर्ष रूप में, कंचनजंगा भारत की सबसे ऊँची चोटी और दुनिया की तीसरी सबसे ऊँची चोटी है। पर्वत हिमालय श्रृंखला का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और इसके पास रहने वाले लोग इसका सम्मान करते हैं। कंचनजंगा पर चढ़ना एक चुनौतीपूर्ण और खतरनाक उपक्रम है, लेकिन पर्याप्त तैयारी और अनुभव के साथ शिखर तक पहुंचना संभव है।

इसे भी पढ़े :

भारत की सबसे ऊंची इमारत

भारत के कौन से प्रधानमंत्री का कार्यकाल सबसे छोटा था?