आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन क्या है? art of conversation की जानकारी हिंदी में

Advertisements

क्या आपके साथ भी ऐसा होता है कि जब आप किसी से बात करते है तो आपकी बात सामने वाला ध्यान से नहीं सुनता है वही जब दूसरा कोई बोलता है तो उसकी बात लोग ध्यान से सुनते है। ऐसा बस बात करने की कला जिसको आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन भी कहते है इसके कारण हो सकता है। तो चलिए आज के इस पोस्ट में हम आपको आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन के बारे में बताते है।

आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन क्या है? (What is Art of Conversation?)

आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन का मतलब बात करने का कला होता है। वैसे तो हर कोई बात करता है लेकिन जब इस तरीके से बात किया जाए की सामने वाला बात को ध्यान से सुने। इसके साथ ही बोलने वाला जो चाहता है उसे सफाई से बोल दे तो इस कला को आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन ही कहा जाता है।

आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन का इस्तेमाल कैसे करें? (How to use Art of Conversation?)

आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है जब तक इसे सीखा न जाए। आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन एक कला है जिसको सीखा जाता है। सीखने के लिए आपको इस विषय पर लिखी किताबो को पढ़ना होगा। इसके साथ ही आपको इसका अभ्यास भी करना होगा। आपने जो कुछ भी पढ़ा हो उस तरीके को अपने बात चीत में इस्तेमाल कर सकते है।

आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन का फायदा (Benefit of the Art of Conversation)

इसका फायदा आप जितना सोच नहीं सकते है उससे ज्यादा इसका फायदा देखने को मिलता है। चलिए हम आपको कुछ जरूरी फायदे बता देते है। यह कुछ इस तरह से है:

  • किसी से भी अपनी बात को मनवा पाना।
  • अपने बॉस को खुद की हर एक बात को मनवा लेना और जो चाहे वह करवा लेना।
  • नए दोस्त और रिश्ता बनाने में बहुत ही ज्यादा आसानी होती है।
  • लाइफ पार्टनर की बीच कम से कम गलतफहमी होती है। लम्बे समय तक रिश्ता बना रहता है।
  • लोगो को अपना फोल्लोवेर बनाना आसान होता है।
  • अपने क्लाइंट को अपनी बात को समझाना आसान होता है ।
  • कम मेहनत में ज्यादा सफलता को हासिल हो जाता है।

तो यह कुछ इसका फायदा होता है।

आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन का टिप्स (Tips for the Art of Conversation)

चलिए एक-एक करके हम आपको कुछ खास और बेहतरीन आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन की टिप्स हम आपको बताते है। यह टिप्स कुछ इस तरह से है।

यह भी जाने :: पारितंत्र क्या है?

अपनी आवाज को गंभीर रखे: चाहे आप एक पुरुष हो या महिला, आपकी आवाज काफी हद तक भारी होनी चाहिए। महिला से अधिक ज्यादा गंभीर और भारी आवाज पुरुष की होनी चाहिए।

बेहतरीन शब्द का इस्तेमाल करें: हर एक बात चीत में शब्द का बहुत ज्यादा योगदान होता है। हर एक इंसान शब्द की मदद से ही बात कर पाता है। आपके मन के भाव को शब्द को बदल देता है। अब से जब भी बात करे तो सोच समझ के शब्द को चुने।

आँख से आँख मिलाकर बात करें: क्या जब आप बात करते है तो आप सामने वाले से आँखों से संपर्क बना के बात करते है? यदि आप ऐसा नहीं करते है तो अब से आप आँखों से आँख मिल के बात करे। ऐसा करने से सामने वाले को आपके अंदर का आत्मविश्वास नजर आता है।

ऑनलाइन चैट से बचें: यह समय इंटरनेट को हो चुका है। घर बैठे किसी से भी चैट किया जा सकता है, लेकिन यह काफी हद तक बुरा है। इसमें आपके मन का भाव सामने वाले को पता नहीं चाहता है। जितना हो सके ऑनलाइन चैट से बचे।

निष्कर्ष (Conclusion)

हमने आपको इस पोस्ट में आपको आर्ट ऑफ़ कन्वर्सेशन के बारे में विभिन प्रकार की जानकारी को दिया। आपको हमारा यह पोस्ट कैसा लगा आप हमें कमेंट करके बता सकते है। इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ने के लिए धन्यवाद। आपका दिन शुभ हो।