एंटीवायरस क्या होता है? | Computer Antivirus kya hai in Hindi – Justmyhindi

Advertisements

हेलो दोस्तों कैसे हो मुझे उन्मीद हे की आप सब ठीक होंगे तो आज हम आपको डिटेल के साथ बताने वाले हे की एंटीवायरस क्या होता है? तो चलिए सुरु करते है।

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर एक प्रकार का कंप्यूटर सुरक्षा प्रोग्राम है जो आपके कंप्यूटर को वायरस, स्पाइवेयर और अन्य प्रकार के मैलवेयर से बचाने में मदद करता है। एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर आपके कंप्यूटर पर स्थापित किया जा सकता है और संक्रमण के लिए आपके कंप्यूटर को स्कैन करने के लिए उपयोग किया जा सकता है। यदि आप अपने कंप्यूटर पर कोई संक्रमण पाते हैं, तो एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर संक्रमण को दूर करने में मदद कर सकता है।

Contents

एंटीवायरस क्या होता है?

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर क्या है और यह क्या करता है? एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को वायरस सहित कंप्यूटर को संक्रमण से बचाने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर संक्रमणों का पता लगाने और उन्हें रोकने के लिए विभिन्न तरीकों का उपयोग करता है। इन विधियों में कंप्यूटर पर वायरस और मैलवेयर के लिए स्कैन करना, संक्रमित वेबसाइटों तक पहुंच को अवरुद्ध करना और उपयोगकर्ता द्वारा किसी संक्रमित फ़ाइल को खोलने का प्रयास करने पर चेतावनी देना शामिल है।

एंटीवायरस क्यों जरूरी है? एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर आपके कंप्यूटर को बड़े संक्रमणों से बचाने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, यह आपकी फाइलों तक अनधिकृत पहुंच को रोककर आपकी व्यक्तिगत जानकारी को सुरक्षित रखने में मदद कर सकता है।

एंटीवायरस के कितने प्रकार है

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम कई प्रकार के होते हैं। कुछ एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को वायरस, स्पाइवेयर और अन्य दुर्भावनापूर्ण फ़ाइलों को स्कैन करके और हटाकर कंप्यूटर की सुरक्षा के लिए डिज़ाइन किया गया है। अन्य प्रकार के एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को संदिग्ध गतिविधि पर नज़र रखने और रिपोर्ट करने के द्वारा कंप्यूटर की सुरक्षा में मदद करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

एंटीवायरस सबसे पहले किस देश ने लांच किया था

1976 में, सोवियत संघ एंटीवायरस प्रोग्राम शुरू करने वाला पहला देश बना। इसके बाद 1980 में संयुक्त राज्य अमेरिका और फिर 1986 में जापान का स्थान रहा।

एंटीवायरस का पिता किसे कहा जाता है

1981 में, जॉन वॉकर ने पहला वायरस स्कैनर विकसित किया। वह कंप्यूटर सिस्टम से वायरस का पता लगाने और उन्हें हटाने के तरीके पर काम कर रहा था। आज, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर का उपयोग सभी आकार के संगठनों द्वारा अपने कंप्यूटर और डेटा की सुरक्षा के लिए किया जाता है। एंटीवायरस सॉफ्टवेयर आधुनिक कंप्यूटिंग का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है।

एंटीवायरस कैसे काम करता है?

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर कंप्यूटर सिस्टम को वायरस, विनाशकारी फ़ाइलों और अन्य मैलवेयर से बचाने में मदद करता है। जब कोई उपयोगकर्ता किसी वेब पेज तक पहुंचता है या अटैचमेंट डाउनलोड करता है, तो एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर दुर्भावनापूर्ण कोड ढूंढता है और उसे उपयोगकर्ता के कंप्यूटर पर चलने से रोकता है। संदिग्ध फाइलों का पता चलने पर यह यूजर्स को अलर्ट भी करता है।

वायरस एक छोटा सा सॉफ्टवेयर है जो आपके कंप्यूटर को नुकसान पहुंचा सकता है या नष्ट कर सकता है। वायरस ईमेल, यूएसबी स्टिक या अन्य साझा मीडिया के माध्यम से फैल सकते हैं। एक बार आपके कंप्यूटर पर इंस्टॉल हो जाने के बाद, वे आपके नेटवर्क की अन्य मशीनों में अपने आप फैलना शुरू कर देते हैं।

एंटीवायरस प्रोग्राम सभी ज्ञात वायरस की पहचान करने और उन्हें कोई नुकसान करने से पहले ब्लॉक करने का प्रयास करता है। हालांकि, नए वायरस लगातार सामने आते हैं इसलिए कार्यक्रम को नियमित रूप से अपडेट किया जाना चाहिए ताकि वक्र से आगे रह सकें।

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर वायरस और अन्य मैलवेयर खतरों के विरुद्ध आवश्यक सुरक्षा है।

एंटीवायरस भारत में कब आया

इसमें कोई संदेह नहीं है कि एंटीवायरस आज की कंप्यूटर सुरक्षा का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है, और भारत में, यह हाल ही में लोकप्रिय हुआ है। अतीत में, लोग आमतौर पर अपने कंप्यूटर को मैलवेयर संक्रमण से बचाने के लिए एंटी-वायरस सॉफ़्टवेयर का उपयोग करते थे। हालाँकि, पिछले कुछ वर्षों में, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर एक अधिक व्यापक टूलकिट के रूप में विकसित हुआ है जो उपयोगकर्ताओं को फ़िशिंग और साइबर अपराध जैसे ऑनलाइन खतरों से भी बचा सकता है।

आज, एंटीवायरस उत्पाद मुफ़्त और सशुल्क दोनों संस्करणों में उपलब्ध हैं। अधिकांश उपयोगकर्ताओं के लिए मुफ्त संस्करण पर्याप्त हैं, लेकिन कुछ सुविधाएं जैसे रीयल-टाइम सुरक्षा और स्वचालित अपडेट उपलब्ध नहीं हो सकते हैं। एंटीवायरस उत्पादों के भुगतान किए गए संस्करण अधिक सुविधाएँ प्रदान करते हैं जैसे कि पूर्ण वायरस स्कैनिंग और दुर्भावनापूर्ण वेबसाइटों को ब्लॉक करने की क्षमता।

रिसर्च फर्म गार्टनर के एक अध्ययन के मुताबिक, 2020 में एंटीवायरस सॉफ्टवेयर पर वैश्विक खर्च 15 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा।

एंटीवायरस कंप्यूटर में क्या कार्य करता है

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को कंप्यूटर को वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। वायरस सॉफ्टवेयर के टुकड़े होते हैं जो कंप्यूटर पर डेटा की क्षति या हानि का कारण बन सकते हैं। वे तब बनाए जाते हैं जब प्रोग्राम जो अन्य लोगों के साथ साझा करने के लिए नहीं थे, उन्हें जोड़ दिया जाता है, और फिर कॉपी और वितरित किया जाता है। एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर आपके कंप्यूटर को वायरस के लिए स्कैन करता है और यदि वे पाए जाते हैं तो उन्हें हटा देता है।

क्या एंटीवायरस कंप्यूटर को सुरक्षित करता है

बहुत से लोग मानते हैं कि एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर उनके कंप्यूटर को वायरस, स्पाईवेयर और अन्य प्रकार के मैलवेयर से बचाता है। हालाँकि, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर की प्रभावकारिता अभी भी बहस का विषय है। कुछ शोध बताते हैं कि एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर वास्तव में कंप्यूटर को वायरस या अन्य मैलवेयर से नहीं बचाता है। एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर द्वारा कुछ प्रकार के मैलवेयर का पता नहीं लगाया जाता है।

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर कुछ प्रकार के मैलवेयर को ब्लॉक करने में प्रभावी होता है। हालांकि, यह 100% प्रभावी नहीं है और यह मैलवेयर के सभी रूपों का पता नहीं लगा सकता है। एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन को धीमा भी कर सकता है।

क्या एंटीवायरस को अपडेट भी करना होता है

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर का उपयोग करना महत्वपूर्ण है, लेकिन नवीनतम अपडेट पर अद्यतित रहना भी महत्वपूर्ण है। एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को अपडेट करना आपके कंप्यूटर को वायरस और अन्य हानिकारक बग से बचाता है। कुछ लोग अपने एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को अपडेट नहीं करने का विकल्प चुन सकते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि इसमें बहुत अधिक समय लगेगा या यह बहुत जटिल होगा। हालाँकि, एंटीवायरस को अपडेट करना बहुत तेज़ और आसान प्रक्रिया हो सकती है।

जब आप पहली बार अपना एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर इंस्टॉल करते हैं, तो यह स्वचालित रूप से अपडेट की जांच करेगा और उपलब्ध होने पर उन्हें डाउनलोड और इंस्टॉल करेगा। आप मुख्य कार्यक्रम मेनू पर जाकर और “अपडेट” या “अपडेट की जांच करें” का चयन करके स्वयं अपडेट की जांच कर सकते हैं। यदि नए अपडेट उपलब्ध हैं, तो प्रोग्राम आपसे पूछेगा कि क्या आप उन्हें इंस्टॉल करना चाहते हैं।

एंटीवायरस को कहा से ख़रीदे

यदि आप एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर खरीदने के लिए एक भरोसेमंद जगह की तलाश कर रहे हैं, तो आप ऑनलाइन खुदरा विक्रेताओं को देखना चाहेंगे। इनमें से कई कंपनियां मुफ्त परीक्षण की पेशकश करती हैं ताकि आप खरीदारी करने से पहले सॉफ्टवेयर का परीक्षण कर सकें। इसके अतिरिक्त, इनमें से कई स्टोर क्रेडिट कार्ड और पेपाल जैसे आसान भुगतान विकल्प प्रदान करते हैं।

एक अन्य विकल्प यह है कि आप अपने स्थानीय कंप्यूटर या इलेक्ट्रॉनिक्स स्टोर पर जाएं। इनमें से कई स्टोर खुदरा और डाउनलोड दोनों स्वरूपों में एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर प्रदान करते हैं। हालांकि, इस बात से अवगत रहें कि कुछ कंप्यूटर स्टोर में अपने उत्पादों के साथ समस्याओं को हल करने के लिए वांछनीय ग्राहक सेवा नीतियों से कम हो सकता है।अंत में, यदि आप ऑनलाइन शोध करने में सहज महसूस करते हैं, तो ऐसे कई स्थान हैं जहां आप छूट की कीमत पर गुणवत्ता वाले एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर पा सकते हैं। कुछ लोकप्रिय वेबसाइटों में CNET और PCWorld शामिल हैं।

एंटीवायरस के लाभ क्या है

1. एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर आपके कंप्यूटर के लिए सुरक्षा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह आपको वायरस, स्पाइवेयर और अन्य दुर्भावनापूर्ण कार्यक्रमों से बचाने में मदद करता है।

2. एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर आपके कंप्यूटर को सुचारू रूप से चलाने में भी मदद कर सकता है। मैलवेयर को ट्रैक करके और हटाकर, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन को अनुकूलित कर सकता है।

3. एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर अक्सर खरीदने और उपयोग करने के लिए मुफ़्त या अपेक्षाकृत सस्ता होता है। साथ ही, यह आपके कंप्यूटर को नुकसान से सुरक्षित रखने का एक अच्छा तरीका है।

4. यदि आपके पास महत्वपूर्ण फ़ाइलें हैं जिन्हें आप वायरस के कारण खोना नहीं चाहते हैं, तो एंटीवायरस प्रोग्राम का उपयोग करने से पहले उनका बैकअप लेना सबसे अच्छा है।

5. हमेशा अपने एंटीवायरस प्रोग्राम का नवीनतम संस्करण स्थापित करना सुनिश्चित करें यदि यह उपलब्ध है ताकि यह नवीनतम खतरों को अधिक प्रभावी ढंग से ढूंढ और हटा सके।

एंटीवायरस के हानि क्या है

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर का उपयोग करने के कई नुकसान हैं। सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर वास्तव में आपके कंप्यूटर की वायरस और अन्य मैलवेयर के प्रति संवेदनशीलता को बढ़ा सकता है। दूसरा, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर अक्सर बहुत धीमा और दखल देने वाला होता है, जो आपको अपने कंप्यूटर पर सामान्य कार्यों को पूरा करने से रोकता है। तीसरा, कई एंटीवायरस प्रोग्राम कुछ प्रकार के मैलवेयर का पता लगाने में अप्रभावी होते हैं। अंत में, कुछ उपयोगकर्ता पाते हैं कि एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर स्थापित करने के बाद उनके कंप्यूटर अस्थिर हो जाते हैं, जिससे उन्हें अपने सिस्टम को बार-बार पुनर्स्थापित करने की आवश्यकता होती है।

क्या एंटीवायरस कंप्यूटर को धीरे करता है

क्या एंटीवायरस प्रोग्राम आपके कंप्यूटर को धीमा कर देते हैं?

यह एक ऐसा सवाल है जो हाल ही में कई लोगों के दिमाग में रहा है, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर स्थापित करने के बाद कंप्यूटर के धीमे होने की रिपोर्ट के बाद।

सामान्य तौर पर, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर आपके कंप्यूटर को वायरस और अन्य मैलवेयर से बचाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इन खतरों के लिए आपके कंप्यूटर को स्कैन करके और उन्हें हटाकर, एंटीवायरस प्रोग्राम कभी-कभी आपके कंप्यूटर को धीमा कर सकते हैं।

लेकिन कुछ वैध कारण भी हैं कि एंटीवायरस प्रोग्राम स्थापित करने के बाद कंप्यूटर धीमा क्यों हो सकता है। उदाहरण के लिए, यदि आपके पास एक ही समय में बहुत सारी सक्रिय फ़ाइलें खुली हैं, तो आपके कंप्यूटर को सुरक्षित रखने के लिए एक एंटीवायरस प्रोग्राम को अधिक काम करने की आवश्यकता हो सकती है।

इसलिए यदि आप देखते हैं कि एंटीवायरस प्रोग्राम स्थापित करने के बाद आपका कंप्यूटर धीमा चल रहा है, तो चिंता न करें – यह संभवतः सॉफ़्टवेयर द्वारा प्रदान की जाने वाली सुरक्षा के कारण है।

अच्छे एंटीवायरस का नाम कोन कोन से है

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर एक प्रकार का कंप्यूटर सुरक्षा सॉफ़्टवेयर है जो कंप्यूटर को वायरस, स्पाइवेयर और अन्य प्रकार के मैलवेयर से बचाने में मदद करता है। कई अलग-अलग प्रकार के एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर हैं, लेकिन कुछ सबसे प्रसिद्ध नामों में Microsoft सुरक्षा अनिवार्य, AVG एंटीवायरस और नॉर्टन एंटीवायरस शामिल हैं। ऐसा एंटीवायरस चुनना महत्वपूर्ण है जो नवीनतम वायरस खतरों के साथ अप-टू-डेट हो और उपयोगकर्ताओं के बीच अच्छी प्रतिष्ठा रखता हो। एंटीवायरस चुनते समय विचार करने वाले कुछ कारकों में लागत, पेश की जाने वाली सुविधाएँ और सॉफ़्टवेयर का उपयोग करना आसान है या नहीं।

क्या मोबाइल फोन का भी एंटीवायरस होता है

क्या मोबाइल फोन में भी एंटीवायरस सॉफ्टवेयर होता है? एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर कंप्यूटर और मोबाइल उपकरणों पर उपयोग की जाने वाली एक प्रकार की सुरक्षा है। इसे वायरस, स्पाईवेयर और अन्य प्रकार के मैलवेयर का पता लगाने और हटाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। सिद्धांत रूप में, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को मोबाइल उपकरणों पर भी काम करना चाहिए। लेकिन व्यवहार में, कुछ चेतावनी हैं। एक बात के लिए, अधिकांश मोबाइल एंटीवायरस प्रोग्राम वास्तव में वायरस के लिए फ़ोन को स्कैन नहीं करते हैं। अगर आपके फोन में कोई संदिग्ध फाइल है तो वे आपको केवल चेतावनी देते हैं। और अगर आप अपने आप को नवीनतम वायरस खतरों से बचाना चाहते हैं, तो आपको अपने डिवाइस के ऐप स्टोर से एक ऐप इंस्टॉल करना होगा।

निष्कर्ष

अंत में, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर किसी भी कंप्यूटर पर होना महत्वपूर्ण है। यह आपके कंप्यूटर को वायरस, स्पाईवेयर और अन्य मैलवेयर से बचाने में मदद करता है। एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर आपकी व्यक्तिगत जानकारी की सुरक्षा करके आपकी गोपनीयता को सुरक्षित रखने में भी मदद कर सकता है।

इसे भी पढ़े :
मोबाइल फ़ोन के लिए एप्प बनाने का तरीका