Abs kya hai? | Anti Lock Braking System | ABS in hindi

Advertisements

हेलो दोस्तों कैसे हो? मुझे उन्मीद हे की आप सब ठीक होंगे तो आज हम आपको डिटेल के साथ बताने वाले हे की Abs क्या है? और ABS की पूरी जानकारी हिंदी में? और मुझे पूरी उन्मीद हे की आप इस आर्टिकल को सुरु से लेकर अंत तक पढ़ेंगे तो आपको कुछ भी Question नहीं रहेगा तो चलिए सुरु करते है।

ABS एक सेफ्टी फीचर है जो कई नई कारों में स्टैंडर्ड आता है। यह अचानक रुकने या टकराने से होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने में मदद करता है।

ABS सिस्टम यह पता लगाने के लिए सेंसर का उपयोग करता है कि कार कब फिसल रही है और इसे रोकने में मदद करने के लिए ब्रेक को सक्रिय करता है। एबीएस कार को बाहर घूमने से रोककर दुर्घटना की गंभीरता को कम कर सकता है।

पूर्ण ब्रेकिंग पावर सुरक्षित ड्राइविंग की कुंजी है। ABS आपको कठिन परिस्थितियों में आपकी कार पर नियंत्रण बनाए रखने में मदद करता है, जब आपको इसकी सबसे अधिक आवश्यकता होती है तो अतिरिक्त स्टॉपिंग पावर प्रदान करता है।

एबीएस सिस्टम को बदलना बहुत महंगा हो सकता है, इसलिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि उनका उपयोग कब करना है और आप उनके बिना सुरक्षित रूप से कब ब्रेक लगा सकते हैं।

एबीएस, या एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम, कई वाहनों पर एक सुरक्षा विशेषता है। यह वाहन के बहुत तेजी से जाने और ब्रेक लगाने पर पता लगाकर दुर्घटना की संभावना को कम करने में मदद करता है।

Abs का फुल फॉर्म क्या होता है?

ABS का फुल फॉर्म एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम है। ABS एक ऐसा सिस्टम है जो ब्रेक को लॉक होने और स्किडिंग से बचाता है। यह प्रणाली उन कारों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है जो फिसलन की स्थिति में चलने वाली हैं।

Abs का फुल फॉर्म इंग्लिश में क्या होता है?

ABS का पूर्ण रूप Anti Lock Braking System है। ABS एक सुरक्षा विशेषता है जो ब्रेक लगाते समय पहियों को लॉक होने से रोकने में मदद करती है, जिससे कार स्किड हो सकती है।

जब सिस्टम को पता चलता है कि एक या एक से अधिक पहिए लॉक होने वाले हैं, तो यह कार को स्किडिंग से बचाने के लिए उन्हें पल भर में ब्रेक देता है। बर्फ या बर्फ जैसी फिसलन वाली सतहों पर ABS विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

Abs Anti Lock Braking System क्या है ?

ABS (एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम) एक प्रकार का ब्रेक सिस्टम है जो ब्रेक लगाने पर वाहन के पहियों को लॉक होने से रोकता है। जब ब्रेक लगाए जाते हैं, तो एब्स सेंसर एब्स कंट्रोलर को सिग्नल भेजते हैं। एब्स कंट्रोलर तब ब्रेक पैड पर दबाव डालने के लिए हाइड्रोलिक ब्रेक यूनिट को सिग्नल भेजता है।

यह दबाव पहियों को लॉक होने से बचाने में मदद करता है और चालक को वाहन पर नियंत्रण बनाए रखने की अनुमति देता है।

Abs Anti Lock Braking System कैसे काम करता है ?

जब आप अपनी कार में ब्रेक पेडल मारते हैं, तो पेडल के खिलाफ आपके पैर के दबाव के कारण ब्रेक मास्टर सिलेंडर से प्रत्येक पहिये पर ब्रेक कैलीपर तक तरल पदार्थ प्रवाहित होता है।

Braking System

Advertisements

कैलिपर्स घर्षण पैदा करने और कार को धीमा करने या रोकने के लिए रोटार के खिलाफ ब्रेक पैड को निचोड़ते हैं। जब आप जोर से और तेजी से ब्रेक मारते हैं, तो आपके पहिए लॉक हो सकते हैं और स्किडिंग शुरू कर सकते हैं।

यह खतरनाक है क्योंकि इससे आप कार से नियंत्रण खो सकते हैं।

एबीएस एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम लगातार व्हील स्पीड की निगरानी करके आपके पहियों को लॉक होने से रोकता है। जब उसे पता चलता है कि एक या एक से अधिक पहिए बंद होने वाले हैं, तो वह जल्दी से उस पहिए में पर्याप्त तरल पदार्थ पंप कर देता है ताकि उसे लॉक होने से बचाया जा सके। इससे आप अपनी कार का नियंत्रण खोए बिना ब्रेक लगाना जारी रख सकते हैं।

ABS के पार्ट्स नाम और वर्किंग 

ABS भाग का नाम रोटर है। एक एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम का कार्य यह है कि ब्रेक फ्लुइड को ब्रेक कैलीपर्स में मजबूर किया जाता है। इससे रोटर तेजी से घूमता है और फिर ब्रेक जारी किए जा सकते हैं।

जब ब्रेक पेडल उदास होता है, तो यह हाइड्रोलिक पंप को एक संकेत भेजता है। यह पंप कार के चारों कोनों में तरल पदार्थ भेजेग

Abs Anti Lock Braking System का काम क्या है ?

एबीएस एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम वाहनों में इस्तेमाल किया जाने वाला एक तंत्र है जो ब्रेक लगाते समय पहियों को लॉक होने से रोकता है। जब ब्रेक लगाए जाते हैं, तो ABS सिस्टम बहुत जल्दी ब्रेक को चालू और बंद कर देता है। यह पहियों को लॉक होने से रोकता है और वाहन को स्थिर रखता है।

ABS Technology का इतिहास

एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम, या ABS, एक प्रकार का ब्रेक सिस्टम है जो किसी वाहन को स्किडिंग से बचाने में मदद करता है।

ABS तकनीक को लगभग 100 से अधिक वर्षों से अधिक समय हो गया है, लेकिन 1970 के दशक के अंत तक इसका उपयोग यात्री कारों में नहीं किया गया था। एबीएस अब ज्यादातर नई कारों और ट्रकों पर मानक है।

एबीएस प्रत्येक पहिये की गति की निगरानी करके काम करता है। जब ब्रेक लगाए जाते हैं, तो सिस्टम यह देखने के लिए जांच करता है कि क्या कोई पहिया तेजी से घूम रहा है या नहीं।

यदि एक या अधिक पहिए घूमने लगते हैं, तो ABS सिस्टम ब्रेक कैलीपर्स को उस पहिये पर अधिक दबाव डालने के लिए एक संकेत भेजता है। यह पहिया को लॉक होने से रोकता है और कार को फिसलने से रोकता है।

Bike में ABS क्या होता है?

अधिकांश आधुनिक कारों में एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम, या ABS, एक मानक विशेषता बन गई है। सिस्टम ब्रेक को लॉक होने से रोकता है, जिससे स्किड हो सकता है और नियंत्रण खो सकता है।

यह प्रणाली जहां कार चालकों के लिए फायदेमंद है, वहीं मोटरसाइकिल चलाने वालों के लिए भी यह महत्वपूर्ण है।

कारों की तुलना में फिसलन की स्थिति में नियंत्रण खोने के लिए मोटरसाइकिलें अधिक संवेदनशील होती हैं।

जब किसी मोटरसाइकिल पर ब्रेक लगाया जाता है जो ABS से लैस नहीं है, तो पहिए लॉक हो सकते हैं, जिससे बाइक स्किड हो सकती है। यह खतरनाक हो सकता है, खासकर यदि आप तेज गति से यात्रा कर रहे हैं।

ABS प्रत्येक पहिए की गति की लगातार निगरानी करके ऐसा होने से रोकने में मदद करता है। यदि एक पहिया लॉक होना शुरू हो जाता है, तो ABS सक्रिय हो जाएगा और उस पहिये पर ब्रेक छोड़ देगा।

यह बाइक को बिना स्किडिंग के एक सीधी रेखा में यात्रा करना जारी रखने की अनुमति देगा।

ABS के अवयव कौन कौन से होते है ?

ABS का मतलब एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम है। ABS एक कंप्यूटर नियंत्रित सिस्टम है जो ब्रेक को लॉक होने और स्किडिंग से बचाने में मदद करता है।

जब ब्रेक लगाए जाते हैं, तो ABS पंप ब्रेक द्रव पर एक स्पंदन प्रभाव पैदा करता है। यह स्पंदन ब्रेक को लॉक होने और स्किडिंग से बचाने में मदद करता है। ABS सिस्टम में चार मुख्य घटक होते हैं: हाइड्रोलिक कंट्रोल यूनिट, व्हील स्पीड सेंसर, मॉड्यूलेटर वाल्व और ब्रेक पेडल सेंसर।

ABS के प्रकार

एबीएस के विभिन्न प्रकार हैं। एक प्रकार को तीन-चैनल प्रणाली कहा जाता है। यह सिस्टम हर पहिए की स्पीड पर नजर रखता है। यदि एक पहिया बंद होने वाला है, तो उस पहिये का ब्रेक निकल जाता है।

इससे कार एक सीधी रेखा में चलती रहती है।

एक अन्य प्रकार के ABS को फोर-चैनल सिस्टम कहा जाता है। यह सिस्टम प्रत्येक पहिये की गति और कार की स्थिति पर नज़र रखता है।

यदि एक पहिया बंद होना शुरू हो जाता है, तो उस पहिये का ब्रेक निकल जाता है। लेकिन साथ ही, विपरीत पहिये पर ब्रेक लगाया जाता है। यह कार को नियंत्रण से बाहर घूमने से रोकने में मदद करता है।

Four-channel, four-sensor ABS क्या है ?

आपकी कार में एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम सबसे महत्वपूर्ण सुरक्षा सुविधाओं में से एक है। यह आपको कम दूरी में ब्रेक लगाने में मदद करता है और आपकी कार को फिसलने से रोकता है।

ABS को कई साल हो गए हैं, लेकिन यह एक लग्जरी फीचर हुआ करता था जो केवल हाई-एंड कारों में उपलब्ध होता था।

आजकल लगभग हर कार में ABS मिलता है। ABS की लोकप्रियता को इसकी सुरक्षा में सुधार करने की क्षमता के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। वास्तव में, अध्ययनों से पता चला है कि ABS वाली कारों के दुर्घटनाग्रस्त होने की संभावना बहुत कम होती है।

ABS के दो मुख्य प्रकार हैं: फोर-चैनल और फोर-सेंसर। वे दोनों एक ही तरह से काम करते हैं, लेकिन चार-चैनल ABS अधिक सामान्य है क्योंकि यह निर्माण के लिए सस्ता है। चार-चैनल ABS में चार सेंसर होते हैं जो प्रत्येक पहिये की गति की निगरानी करते हैं।

Three-channel, three-sensor ABS क्या है ?

कारों में, एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम (ABS) एक सुरक्षा विशेषता है जो ड्राइवरों को आपातकालीन स्टॉप के दौरान अपने वाहनों पर नियंत्रण बनाए रखने में मदद करती है।

ABS ब्रेक यह पता लगाने का काम करते हैं कि पहिए कब लॉक होने वाले हैं और फिर उन्हें ऐसा करने से रोकने के लिए उन्हें स्वचालित रूप से पंप करते हैं।

पारंपरिक ABS सिस्टम पहिया की गति को मापने के लिए एकल सेंसर का उपयोग करते हैं। यह सेंसर प्रत्येक पहिए पर एक बिंदु पर स्थित होता है, जो उस बिंदु के गंदे या गीले स्थान पर होने पर समस्या पैदा कर सकता है।

एक तीन-चैनल, तीन-सेंसर ABS सिस्टम प्रत्येक पहिया पर विभिन्न बिंदुओं पर स्थित सेंसर का उपयोग करके इस समस्या को हल करता है। यह सिस्टम को व्हील स्पीड की अधिक सटीक रीडिंग प्राप्त करने की अनुमति देता है, जिससे ब्रेकिंग प्रदर्शन बेहतर होता है।

ABS के फायदे

जब आप ब्रेक लगाते हैं, तो आपकी कार के पहिए लॉक हो जाते हैं और कार फिसल जाती है। ऐसा तब होता है जब आप बहुत जोर से ब्रेक लगाते हैं और टायर सड़क को पकड़ नहीं पाते हैं। कार रुकने की बजाय किनारे खिसक जाती है। ABS ऐसा होने से रोक सकता है।

ABS एक कंप्यूटर सिस्टम है जो यह पता लगाता है कि पहिया कब लॉक होने वाला है। जब ऐसा होता है, तो ABS सिस्टम ब्रेक को बहुत तेज़ी से पंप करता है। यह पहिया को लॉक होने से रोकता है और कार को फिसलने से रोकता है।

क्या ABS वाली गाड़ी लेनी चाहिए?

जब आप खरीदने के लिए एक नई कार की तलाश में हैं, तो आप जिन विशेषताओं पर विचार कर रहे हैं उनमें से एक एबीएस है।

एक कार में होने के लिए एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम एक बेहतरीन सुरक्षा विशेषता है, लेकिन क्या आपको ऐसी कार खरीदनी चाहिए जिसमें ये हों?

आपकी कार में ABS होने के फायदे और नुकसान जरूर हैं। सबसे बड़ा समर्थक स्पष्ट रूप से सुरक्षा पहलू है। जब आपकी कार में ABS होता है, तो ब्रेक मारने पर उसके स्किड या हाइड्रोप्लेन की संभावना बहुत कम होती है। यह खराब मौसम में या धीमी सड़कों पर एक जीवन रक्षक सुविधा हो सकती है।

ABS के लिए एक और बड़ा लाभ यह है कि यह दुर्घटनाओं से बचने में आपकी मदद कर सकता है। यदि आपकी कार में एबीएस होने के दौरान दुर्घटना हो जाती है, तो संभावना है कि आपकी कार कम फिसलेगी और इसलिए आपको और आपके वाहन दोनों को कम नुकसान होगा।

ABS के नुकसान

जब आप ब्रेक लगाते हैं, तो आपकी कार के पहिए लॉक हो जाते हैं। इससे आप फिसल सकते हैं और कार पर से नियंत्रण खो सकते हैं।

एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम (ABS) पहियों को लॉक होने से बचाते हैं। इससे आपके लिए कार को नियंत्रित करना आसान हो जाता है।

ABS एक बेहतरीन सेफ्टी फीचर है, लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं। एक नुकसान यह है कि ABS हमेशा बिना ABS वाली कार की तरह कार को जल्दी से नहीं रोक सकता।

एक और नुकसान यह है कि एबीएस कुछ स्थितियों में कार को चलाना कठिन बना सकता है।

निष्कर्ष

अंत में, ABS एक ऐसा सिस्टम है जो ब्रेक लगाने के दौरान वाहन को फिसलने या फिसलने से रोकने में मदद करता है। दुर्घटनाओं को रोकने और ड्राइवरों को अपने वाहनों पर नियंत्रण बनाए रखने में मदद करने के लिए यह प्रणाली बहुत महत्वपूर्ण है।

यदि आप कभी भी इस बारे में संदेह में हैं कि आपका ABS सिस्टम कैसे काम करता है, तो अपने वाहन के मालिक के मैनुअल से परामर्श करना सुनिश्चित करें या किसी विश्वसनीय मैकेनिक से बात करें।ABS एक जीवन रक्षक तकनीक है जिसके बारे में सभी ड्राइवरों को पता होना चाहिए।

अपनी और दूसरों की सुरक्षा को अधिकतम करने के लिए, आपातकालीन स्थिति में ABS का उपयोग कैसे करें, यह जानना महत्वपूर्ण है। हमेशा रक्षात्मक रूप से ड्राइव करना याद रखें, और अप्रत्याशित के लिए तैयार रहें।